Sexual Harassment Case: बॉलीवुड के मशहूर कोरियोग्राफर गणेश आचार्य को यौन उत्पीड़न के मामले में अब जाकर जमानत मिली है। मुंबई की एक मजिस्ट्रेट अदालत ने गणेश आचार्य को इस मामले में जमानत दी है। कोरियोग्राफर पर एक महिला डांसर ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया था। इसके बाद पुलिस ने गणेश आचार्य के खिलाफ एक चार्जशीट दायर की थी। इस मामले में कोर्ट ने सुनवाई करते हुए उन्हें जमानत दी है। यह मामला दो साल पुराना है। इस मामले के चलते गणेश आचार्य गुरुवार को अदालत के समक्ष पेश हुए थे। जिसके बाद कोर्ट ने उन्हें इस मामले में राहत देते हुए उनकी जमानत याचिका मंजूर कर ली है। गणेश आचार्य के खिलाफ महिला ने साल 2020 में यौन उत्पीड़न का केस दर्ज कराया था।

यह था मामला

महिला ने कोरियोग्राफर पर आरोप लगाते हुए कहा था कि 'जब वे गणेश आचार्य के ऑफिस में काम करने के लिए जाती थी तो उस पर वे गलत टिप्पणियां करते थे। साथ ही उन्हें अश्लील वीडियो देखने के लिए भी मजबूर करते थे।' महिला ने आगे बताया कि 'जब उन्होंने इस बात का विरोध किया तो उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया गया।' इसके साथ ही महिला का यह भी आरोप था कि 'इस विरोध के कारण इसके छह माह के बाद ही भारतीय फिल्म टेलीविजन कोरियोग्राफर एसोसिएशन के द्वारा उनकी सदस्यता भी समाप्त कर दी गई थी।' महिला ने यह भी बताया कि 'गणेश आचार्य ने अन्य महिलाओं का भी शोषण किया है।'

सभी आरोपों से मिली जमानत

कोरियोग्राफर गणेश आचार्य ने अपने ऊपर लगे सभी आरोपों को गलत साबित कर दिया है। उन्होंने कहा था कि 'यह सब उन्हें फसाने की साजिश की गई है।' इसके साथ-साथ गणेश आचार्य ने उस महिला के खिलाफ पुलिस में प्राथमिकता भी दर्ज करवाई थी। लेकिन इस मामले में गणेश आचार्य को कभी गिरफ्तार नहीं किया गया था। 23 जून को उनको अदालत में पेश होने के बाद जमानत दे दी गई थी।

Posted By: Sandeep Chourey

  • Font Size
  • Close