Malaal actress Sharmin Segal: फिल्म 'मलाल' से बॉलीवुड में डेब्यू करने वालीं एक्ट्रेस शर्मिन सहगल का अंदाज लोगों को काफी पसंद आ रहा है। शर्मिन के साथ इस फिल्म में लोकप्रिय कॉमेडियन और डांसर जावेद जाफरी के बेटे मिजान जाफरी नजर आ रहे हैं। शर्मिन और मिजान की जोड़ी दर्शकों को काफी पसंद आ रही है। संजय लीला भंसाली के साथ काम करने वाली इस एक्ट्रेस ने हालही में एक इंटरव्यू में बताया कि, स्कूल टाइम में वे काफी मोटी थी। मोटापे की वजह से कई लोग उनका मजाक उड़ाया करते थे। 17 साल की उम्र तक उनका वजन 94 किलो था, लेकिन 6-7 साल की कड़ी मेहनत के बाद वे फैट से फिट हो गईं और अब वे लगभग 49 किलो की हैं। वजन घटाने के बाद अब ग्लैमर वर्ल्ड में उन्हें जमकर तारीफें मिल रही हैं।

-शर्मिन ने कहा कि, ग्लैम वर्ल्ड में बने रहने के लिए आपको फिट और प्रॉपर शेप में होने के अलावा हेल्दी और खुश रहना भी बहुत जरूरी है। बहुत से लोग ग्लैम वर्ल्ड का हिस्सा बनना चाहते हैं, लेकिन सफल नहीं हो पाते हैं। बहुत ये युवा ऐसे भी हैं, जो सिर्फ स्क्रीन पर परफेक्ट दिखने और स्टार्स की तरह बॉडी पाने के लिए अपना फेवरेट खाना और नींद तक छोड़ देते हैं। बहुत सारी कड़ी मेहनत, हेल्थ प्रॉब्लम, डाइट और जिम में घंटों पसीना बहाने के अलावा आपको मानसिक रूप से हेल्दी होना भी बहुत जरूरी है।

-मलाल एक्ट्रेस ने कहा कि, बॉडी शेमिंग, फैट शेमिंग और स्किन शेमिंग जैसे ताने लोगों को लंबे समय तक शारीरिक और मानसिक रूप से प्रभावित करते हैं। इस तरह के तानों से लोगों का स्ट्रेस बढ़ जाता है और कई तरह की बीमारियां उन्हें घेरने लगती हैं। ज्यादा तनाव की वजह से अवसाद और हाई ब्लड प्रेशर जैसी समस्या जन्म ले लेती हैं।

-जब लोग अपने शरीर को लेकर शर्मिंदा होते हैं तो अक्सर आराम करने और अकेले रहने के तमाम तरीकों की तलाश करते हैं। लोग ऐसा इसलिए करते हैं क्योंकि उन्हें लगने लगता है कि वे जब भी बाहर जाएंगे, लोग उनकी बॉडी को लेकर टिप्पणी जरूर करेंगे। यह सोच मोटे लोगों के लिए और भी हानिकारक हो सकती हैं क्योंकि यह भी वजन बढ़ने का मुख्य कारण है। बॉडी शेमिंग से खाने के विकार भी पैदा हो सकते हैं। इनमें बुलिमिया नर्वोसा या एनोरेक्सिया नर्वोसा शामिल हैं।

-बॉडी शेमिंग से लोगों का आत्मविश्वास भी शर्मसार हो सकता है। इसका असर ना सिर्फ उनके जीवन बल्कि रिश्तों और प्रोफेशनल लाइफ पर भी पड़ता है। बॉडी शेमिंग और दोस्तों द्वारा बार-बार उड़ाए जा रहे मजाक की वजह से कई लोग अपने सपनों को पाने की कोशिश छोड़ देते हैं। ऐसे लोग करियर में लगातार फेल होने लगते हैं, क्योंकि उन्हें ये अहसास होने लगता है कि वे इस वर्ल्ड के लिए परफेक्ट नहीं है।

-ऐसे लोग अक्सर भीड़ में जाने से बचते हैं। धीरे-धीरे उन्हें अवसाद और चिंता जैसी बीमारी घेर लेती है और लगातार मानसिक तनाव की वजह से ऐसे लोग आत्महत्या जैसे खतरनाक कदम उठाने के बारे में सोचते हैं। शर्मिन ने कहा कि, बॉडी शेमिंग का असर लोगों के दिलों-दिमाग पर गहरा असर छोड़ते हैं, इससे बचने की जरूरत है।