अमिताभ बच्चन और धर्मेंद्र की फिल्म शोले भारत की सबसे बेहतरीन फिल्मों में से एक है। इस फिल्म को इसके विलेन गब्बर सिंह के कारण भी याद किया जाता है। अरे ओ सांबा, कितने आदमी थे?' गब्बर सिंह यानी अमजद खान का यह डायलॉग आज भी काफी पॉपुलर है। इस डायलॉग में जिस सांबा की बात हो रही है उसका किरदार मैक मोहन ने निभाया था। मैक मोहन ने इस फिल्म में भले ही साइड विलेन का किरदार निभाया हो पर उनकी बेटियां लीड एक्ट्रेस से कम नहीं हैं।

हॉलीवुड में कमाल कर रही है बड़ी बेटी

मैक मोहन की बड़ी बेटी मंजरी एक फिल्म निर्माता हैं और उन्हें शॉर्ट फिल्म्स के लिए जाना जाता है। साल 2012 में 'द लास्ट मार्बल' और साल 2014 में 'द कॉर्नर टेबल' में उनके काम को लोगों ने खूब पसंद किया। उन्होंने 'डंर्किक', 'द डार्क नाईट राइसेस' 'वंडर वुमन' और 'मिशन इम्पॉसिबल' जैसी फिल्मों में सहायक निर्माता के तौर पर काम किया है। बॉलीवुड में भी उन्होंने 'सात खून माफ' और 'वेक अप सिड' जैसी फिल्मों में काम किया है।

'माई नेम इज खान' में दिखा था छोटी बेटी का अभिनय

मैक मोहन की छोटी बेटी विनती मकिजानी एक निर्माता और अभिनेत्री हैं। साल 2010 में आई शाहरुख खान की 'माई नेम इज खान', 'स्केट बस्ती' और 'स्केटर गर्ल' में उनके काम को सराहना मिली थी। मैक मोहन का सपना था कि उनकी बेटियां उनके बनाए प्रोडक्शन हाउस के लिए काम करें और दोनों बहनें ऐसा कर रही हैं। विनती 'द मैक स्टेज' कंपनी की संस्थापक भी हैं, जिसे 2016 में स्थापित किया गया था।

लंबे समय तक चर्चा में रही थी डेजर्ट डॉल्फिन

मैक मोहन की दोनों बेटियां मंजरी और विनती ने डेजर्ट डॉल्फिन नाम की एक फिल्म बनाई थी। इस फिल्म में एक रास्थान की लड़की की कहानी दिखाई गई थी, जो समाज की जंजीरों को तोड़ एक स्केटर बनना चाहती थी। उसके सफर को दोनों बहनों ने बहुत खूबसूरत तरीके से दिखाया था। यह फिल्म काफी समय तक चर्चा में रही थी।

Posted By: Arvind Dubey