अभिषेक बच्चन और इलियाना डी क्रूज की फिल्म 'द बिग बुल' ओटीटी प्लेटफॉर्म हॉटस्टार पर रिलीज हो चुकी है। लंबे समय बाद लीड रोल में नजर आए अभिषेक बच्चन को इस फिल्म से काफी उम्मीदें थी, पर डायरेक्टर ने कुछ अलग करने की चाहत में जो था वो भी गंवा दिया। इस फिल्म में अभिषेक खराब डायरेक्शन का शिकार हुए हैं और कुछ अच्छे के डायलॉग के बावजूद दर्शकों पर कोई खास प्रभाव नहीं छोड़ते हैं।

स्कैम 1992 बनने के बाद उसी कहानी पर फिल्म की क्या जरूरत थी। यह तो फिल्म के डायरेक्टर कूकी गुलाटी ही बता सकते हैं। फिल्म के आने से पहले कहा गया था कि इसमें मूल कहानी से कुछ अलग दिखाया जाएगा। हालांकि, जिसने स्कैम 1992 देखा है उसके लिए फिल्म में कोई ट्विस्ट नहीं है। अगर स्कैम 1992 नहीं भी बना होता तो यह फिल्म अपनी उम्मीदों पर खरी नहीं उतरती।

क्या है कहानी ?

फिल्म में हेमंत शाह यानि अभिषेक बच्चन भारत के बैंकिंग सिस्टम में लूप होल पकड़ लेते हैं और उसकी मदद से बहुत ही तेजी से पैसा कमाते हैं। स्टॉक मार्केट में अपनी रिसर्च और छोटे भाई वीरेन की मदद से हेमंत जल्द ही करोड़पति बन जाता है। वहीं, एक पत्रकार जिसका किरदार इलियाना डी क्रूज ने निभाया है। वह हेमंत की सफलता की कुंजी ढूंढ़ने में लग जाती है। इस केज की जांच के दौरान वो उन तरीकों को सबके सामने लाने की कोशिश करती है, जिनके जरिए हेमंत ने पैसे कमाए हैं। आगे क्या होता है यही कहानी का ट्विस्ट है।

अगर आपने स्कैम 1992 नहीं देखा है तो अभिषेक इस किरदार के लिए सबसे बेहतरीन विकल्प थे। हालांकि, खराब डायरेक्शन के कारण वो भी कुछ खास नहीं कर पाए हैं। इलियाना और निकिता दत्ता के बीच सामंजस्य बैठाने की कोशिश में डायरेक्टर ने किसी एक का भी ठीक से इस्तेमाल नहीं किया है। सोहम शाह हमेशा ही अच्छी स्क्रिप्ट के मोहताज नजर आते हैं और यहां भी उनका प्रदर्शन साधारण रहा है। फिल्म में सपोर्टिंग कास्ट भी दमदार है पर, उनका भी इस्तेमाल ढंग से नहीं हुआ है। अगर आपने स्कैम 1992 देखा तो आपको यह फिल्म देखने की जरूरत नहीं है और यदि आपने स्कैम 1992 नहीं देखा तो आपको यह शो देखना चाहिए।

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close