सूरत (ब्यूरो)। दुष्कर्म के आरोपी नारायण साईं के खिलाफ गवाही देने के लिए इंदौर की 5 पूर्व सेविकाएं सूरत पहुंच कर गुरुवार को पुलिस के समक्ष अपना बयान दर्ज कराया। ये लड़कियां बुधवार को यहां पहुंची थीं।

सूत्रों ने बताया कि मूलत: इंदौर की रहने वाली इन सेविकाओं ने नारायण साईं के साथ कई आश्रमों में काम किया है। इसलिए वे नारायण से जुड़े कई राज जानती हैं।

मामले की जांच कर रहे एसीपी ने गवाह लड़कियों के ब्यान के बारे में खुलकर तो कुछ नहीं बताया, लेकिन इतना जरूर कहा कि इंदौर से आई इन लड़कियों की गवाही नारायण साईं के खिलाफ पुलिस के लिए महत्वपूर्ण साबित होगी। नारायण साईं के बारे में जो बयान पुलिस के समक्ष दिए हैं, उसकी कॉपी कोर्ट में सौंपी जाएगी और सीआरपीसी 164 के तहत उनका ब्यान कोर्ट में भी दर्ज करवाया जाएगा।

बयान की कॉपी

दुष्कर्म मामले में पीड़िता की ओर से सीआरपीसी की धारा 164 के तहत दिए बयान की कॉपी पुलिस को देने का आदेश बुधवार को सेशन कोर्ट ने दिया है।

धर्मेश एक और दिन की रिमांड पर

नारायण साईं के करीबी साधक धर्मेश परिहार को 4 दिन की रिमांड खत्म होने पर पुलिस ने गुरुवार को कोर्ट में पेश किया। पुलिस ने धर्मेश से और पूछतांछ करने के लिए रिमांड की मांग की थी। दोनों पक्षों की दलीलें सुनने के बाद अदालत ने धर्मेश शिवजी परिहार को शुक्रवार दिन में 4 बजे तक के लिए पुलिस रिमांड पर भेज दिया।

आरोप है कि नारायण साईं की अग्रिम जमानत अर्जी की नोटरी पर उसके फर्जी दस्तखत धर्मेश परिहार ने किए थे। साथ ही डेटा इंट्री वाला रजिस्टर भी गायब कर दिया था। यही नहीं नारायण को पुलिस से बचाने के लिए हर संभव मदद भी पहुंचाई थी।

Posted By:

  • Font Size
  • Close