अहमदाबाद। गुजरात में मकरसंक्राति का पर्व हर्षोल्लास के साथ मनाया गया। हालाकि इस बार भी यह पर्व अन्य वर्षों की तरह ही रक्त रंजित साबित हुआ। पतंग के मांझे से 14 और 15 जनवरी के दो दिनोंं दौरान तीन हजार से ज्यादा पशु-पक्षी घायल हुए है। इस दौरान पतंगबाजी करते समय छत से गिरने सहित विभिन्न दुर्घटनाओं में 186 लोग गंभीर रूप से घायल हुए हैंं। इसमें दो की मौत हो हुई है।

राज्य सरकार की हेल्पलाइन नम्बर 1962 पर मकरसंक्राति के दिन 1066 और उसके दूसरे दिन 1,140 काल मिले, जिसमें पशु पक्षियों की चिकित्सा की मांग की गयी थी। इनमें 90 प्रतिशत से भी अधिक मामले पशु-पक्षियों के घायल होने का कारण पतंग का मांझा था।

जानकारी के अनुसार मकर संक्रांति 14 जनवरी पशु पक्षियों की चिकित्सा के लिए हेल्पलाइन पर 1,062 Call आए। इनमें से सर्वाधिक 239 Call अहमदाबाद से मिले थे। वहीं सूरत से 110, वड़ोदरा से 89 Call आये थे। अहमदाबाद में गत वर्ष 184 Call आये थे। इसमें इस वर्ष 29.89 प्रतिशत की वृद्धि हुई है। जबकि पूरे राज्य में गत वर्ष उत्तरायण के अवसर पर कुल 687 Call मिले। इसकी तुलना में इस वर्ष 1,062 Call मिले। इस प्रकार इसमें 54.59 प्रतिशत की वृद्धि हुई।

मकर संक्राति के दिन 404 पक्षियों, 30 बिल्ली, 135 बैल, पांच गाय 431 कुत्ता तथा तीन चील की चिकित्सा की गयी। दूसरे दिन भी पतंग उड़ाना पशु पक्षियों के लिए घातक साबित हुआ। वासी उत्तरायण 15 जनवरी को भी कंट्रोल रूप को Call सतत मिलते रहे।

देर शाम तक 1140 काल मिले जो गत वर्ष केवल 766 थे। इस प्रकार इस वर्ष इसमें 50.99 प्रतिशत वृद्धि हुई। वहीं अहमदाबाद से 235 काल मिले थे। इन दो दिनों के दौरान राज्य सरकार की सरकारी हेल्पलाइन पर काल मिलने के बाद 1,377 प्राणियोंं और 829 पक्षियों की चिकित्सा की गई।

Posted By: Navodit Saktawat

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

ipl 2020
ipl 2020