अहमदाबाद। गुजरात की राजनीति के दिग्‍गज पूर्व मुख्‍यमंत्री शंकरसिंह वाघेला (Shanker singh Vaghela) की कांग्रेस (congress) में वापसी हो सकती है। पिछले विधानसभा चुनाव में मुख्‍यमंत्री पद को लेकर पार्टी से हुई अनबन के बाद उन्‍होंने कांग्रेस छोड़ दी थी। गुजरात में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस आलाकमान को प्रदेश अध्‍यक्ष, नेता विपक्ष का चुनाव करना है। पार्टी के प्रदेश प्रभारी की नियुक्ति सबसे पहले होगी उसके बाद नए प्रदेश अध्‍यक्ष का चुनाव होगा।

गुजरात में कांग्रेस की रणनीतिक स्थिति के मुताबिक वरिष्‍ठ नेता शंकरसिंह वाघेला पार्टी के लिए फायदेमंद हो सकते हैं, तथा उनके आने से पार्टी में एक दबंग चेहरे की उपस्थिति भी नजर आएगी। अपने समर्थकों में बापू के नाम से मशहूर शंकरसिंह बाघेला कांग्रेस छोड एनसीपी में शामिल हुए, लेकिन वहां अधिक नहीं टिक सके। इन दिनों वे अपना प्रजाशक्ति दल बनाकर सामाजिक व राजनीतिक कार्यों में व्‍यस्‍त हैं। लेकिन अपने पूर्व विधायक पुत्र महेंद्रसिंह वाघेला के राजनीतिक कैरियर को संवारने के लिए बापू कांग्रेस में वापसी को तैयार हैं।

कुछ समय पहले खुद बापू ने बिना शर्त कांग्रेस में शामिल होने की इच्‍छा जताई थी लेकिन अब वरिष्‍ठ नेता अहमद पटेल के निधन के बाद पार्टी में सक्रिय पूर्व केंद्रीय मंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष पद के प्रबल दावेदार भरतसिंह सोलंकी गुट, वाघेला की राह आसान बना सकता है।

Posted By: Shailendra Kumar

  • Font Size
  • Close