सूरत। सूरत में नौ साल में पैसे डबल करने की लालच देकर सैकड़ो लोगों को 100 करोड़ का चूना लगाने मामला सामने आया है। मुंबई की फिनोमिनल हेल्थ केयर सर्विस लिमिटेड नामक कंपनी के चेयरमेन और संचालक फरार हो गये है। सूरत के महिधरपुरा पुलिस थाने में जमीन दलाल सहित अभी तक कुल छह लोगों ने करीब 6.94 करोड़ की ठगी का मामला दर्ज करवाया है।

महिधपुरा पुलिस ने बताया कि मुंबई की फिनोमिलन हेल्थ केयर सर्विस लिमिटेड नामक कंपनी के भारत भर में 67 से अधिक शाखाएं है। सूरत के अलग-अलग क्षेत्रों में इस कंपनी के कुल 9 शाखाएं है। इस कंपनी में हेल्थ इन्स्योरन्स की अलग-अलग स्कीमों सहित 9 साल में पैसे डबल करने की लालच दी जाती थी।

पुलिस ने बताया कि मूलतः उत्तरप्रदेश निवासी तथा वर्षों से सूरत के सचिन सी.आर.पाटील नगर में रहते जमीन दलाल राम नयन रामतीर्थ पांडे सहित कुल छह लोगों ने शिकायत दर्ज करवायी है कि देवेन्द्र प्रभाकर तिवारी नामक व्यक्ति ने वर्ष 2008 में मुंबई के मलाड़ स्थित फिनोमिनल हेल्थ केयर सर्विस लिमेटिड कंपनी के सूरत में स्थित शाखाओं के बारे में बताया था।

देवेन्द्र के जरिए उन सभी ने कंपनी में 6.94 करोड़ रुपये निवेश किये थे। कंपनी के एजन्ट अनिलसिंह ने ग्राहकों को लाने के लिए कमिशन देने की लालच दी थी। राम नयन पांडे ने 600 लोगों से अलग-अलग स्कीमों निवेश करवाया था। इसी तरह अलग-अलग एजन्डों ने भी सेकड़ो लोगों को नौ साल में रुपये डबल देने की लालच देकर रुपये निवेश करवाये थे।

पुलिस ने बताया कि निवेशकों को रुपये देने के बजाये कंपनी के संचालक कुछ दिन पहले ही सूरत में सभी शाखाएं बंद कर फरार हो गये है। जांच करने पर पता चला है कि कंपनी में सूरत के सैकड़ो लोगों ने करीब 100 करोड़ रुपये का निवेश किया है।

पुलिस ने कंपनी के चेयरमैन नंदलाल केश सिंह (मुंबई), कंपनी के उप चेयरमैन टी.एम.एस. नायर (मुंबई), कंपनी के मेनेजिंग डिरेक्टर एम.के.सिंह (मुंबई), गुजरात जोन के डिरेक्टर रामसजीवन शुक्ला (वापी), गजरात जोन के डिरेक्टर अमरनाथ तिवार (वापी) तथा गुजरात जोन मेनेजिंग डिरेक्टर प्रभाकर मिश्रा (निवासी 101 लभ्मी क्लासीक बिल्डींग, बालाजी बेन्कवेट होल के सामने मुंबई) के खिलाफ शिकायत दर्ज कर जांच शुरु की है।

Posted By: