अहमदाबाद। गुजरात के शिक्षा मंत्री भूपेन्द्र सिंह चुडासमा ने कहा कि उनकी सरकार शिक्षकों पूरा वेतन देती है, इसके बाद भी शिक्षक सही तरीके से काम नहीं करते है। इस साल दसवीं, बारहवीं के परिणाम बहुत की कम आए है, जो दर्शाता है कि शिक्षक छात्रों को सही तरीके से नहीं पढ़ा रहे है। गांधीनगर में शाला प्रवेशोत्सव के उद्घाटन समारोह में उन्होंने यह बात कहीं।

मंत्री भूपेन्द्र सिंह चुड़ासमा ने कहा कि इस बार कक्षा 10 वीं में गुजराती भाषा में डेढ लाख से ज्यादा छात्रा फेल हुए है। यह कैसे चलेगा? सरकार शिक्षकों को पूरा वेतन देती है। उनकी नौकरी की सुरक्षा सरकार की है तो शिक्षकों का काम भी बच्चों को अच्छी शिक्षा देना है।

गुजरात की मातृभाषा गुजराती में जब डेढ़ लाख बच्चें फेल होते है तो यह साबित होता है कि शिक्षकों ने अपना काम सही तरीके से नहीं किया।

मंत्री चुड़ासमा ने कहा कि सेल्फ फाइनेंस स्कूलों में नौकरी की सलामती नहीं है। अगर स्कूल का परिणाम खराब आता है तो स्कूल के संचालक शिक्षकों को नौकरी से निकाल देते है। लेकिन सरकार ऐसा नहीं करती है।

हालांकि उन्होंने यह भी माना सेल्फ फाइनेंस स्कूलों की तुलना में सरकारी स्कूलों का परिणाम बेहतर आया है। उन्होंने कहा कि शिक्षकों को और भी मेहनत की जरुरत है।

Posted By: Neeraj Vyas