Gujarat : उत्तर गुजरात की एक महिला सरपंच ने अपने ही पति को नोटिस भेजकर गांव में गौचर की जमीन पर कब्‍जा करने को लेकर कानूनी कार्यवाही की बात कही है। गांव वालों की शिकायत के बाद सरपंच ने दूसरी बार पति को ये नोटिस दिया है। बनासकांठा के वड़गाम तहसील की थालवड़ा गांव की 35 वर्षीय सरपंच अनु चौधरी ने अपने 40 वर्षीय पति दिनेश चौधरी को नोटिस भेजा है। अनु चौधरी एमए बीएड हैं और पहली बार सरपंच बनी हैं। उनके ससुर जेठाभाई चौधरी भी तीन बार सरपंच रह चुके हैं। अनु तीन साल से इस पद पर हैं, सरपंच बनने के बाद सबसे पहले उन्‍होंने स्‍वच्‍छ भारत का सपना साकार करने के लिए गांव की सडकों की दशा सुधारी।

पेयजल व बिजली की सुविधाओं को सुचारू किया तथा गांव की स्‍ट्रीट में एलईडी लगवाई। स्‍कूल को क्रमोन्‍नत कर हाईस्‍कूल कराया तथा दानदाताओं की मदद से 5 कमरे भी बनवाए। राजनीति व पंचायत का कोई अनुभव नहीं लेकिन गांव के विकास की धुन के चलते वे गांव की सुविधाओं में इजाफा कर ही रही है साथ ही अतिक्रमण के खिलाफ भी मुहिम चला रखी है, इसी के तहत अपने पति तक को भी नोटिस थमा दिया।

नोटिस में कहा गया है कि गायों के चरने के लिए आरक्षित करीब 810 वर्ग मीटर गौचर भूमि पर अवैध तरीके से अतिक्रमण किया गया है इसके लिए क्‍यों नहीं कानूनी कार्यवाही की जाए। गांव वालों की अतिक्रमण संबंधी शिकायत के चलते सरपंच अनु चौधरी ने 12 जनवरी 2020 को यह नोटिस जारी किया। इससे पहले वर्ष 2017 में भी सरपंच ने पति व गांव के अन्‍य अतिक्रमणकारियों को नोटिस देकर अवैध कब्‍जे हटाने के निर्देश दिए थे।

वड़गाम की तहसीलदार वर्षा चौधरी बताती हैं कि दिनेश चौधरी सहित अन्‍य ग्रामीणों ने करीब 7-8 बीघा जमीन पर कब्‍जा जमा रखा है। सरपंच ने इस संबंध में जिला प्रशासन को भी सूचित कर रखा है। गांव में अतिक्रमण को लेकर कई शिकायतें मिलीं, जिसके बाद सबको नोटिस दिए गए।

अनु चौधरी ने इनमें से एक नोटिस अपने पति दिनेश को भी भेजा है। दिनेश ने बताया कि आगामी 24 फरवरी तक गांव की जमीन की नपती होगी जिसमें जिला व तहसील प्रशासन जमीन माप कर सरकारी जमीन की जानकारी देगा। इसके बाद वे अधिग्रहीत जमीन होगी, उसे खाली कर देंगे।

उधर सामाजिक कार्यकर्ता हंसमुख राठौड ने बताया कि कई शिकायतों के बाद अतिक्रमण करने वालों को नोटिस दिया गया है लेकिन वे चाहते हैं कि उचित कानूनी कार्यवाही की जाए ताकि गौचर की जमीन को तुरंत खाली कराया जा सके। राठौड ने बताया कि दिनेश चौधरी के मामले में वे खुद जिला प्रशासन को लिखित शिकायत कर चुके हैं।

Posted By: Arvind Dubey

fantasy cricket
fantasy cricket