अहमदाबाद। पाटीदार आरक्षण आंदोलन के नेता हार्दिक पटेल ने नेता बनने की महत्वाकांक्षा पूरी करने के लिए आंदोलन का इस्तेमाल किया। आंदोलन शुरू करने के एक साल के भीतर वह करोड़पति बन गए हैं। हार्दिक पटेल के दो पूर्व सहयोगियों चिराग पटेल और केतन पटेल ने ये दावे किए हैं।

हार्दिक को लिखे खुले पत्र में उन्होंने ये आरोप लगाए हैं। चिराग और केतन ने पत्र में लिखा है, "नेता बनने की आपकी महत्वाकांक्षा, स्वार्थ और धनवान बनने की चाह ने समुदाय और हमारे आंदोलन को भारी नुकसान पहुंचाया है।"

उन्होंने आगे लिखा है, "आंदोलन के दौरान जान गंवाने वाले लोगों के परिजनों को मदद देने की जगह आप और आपके नजदीकी मित्र भव्य जिंदगी जी रहे हैं। मारे गए लोगों के परिजनों की मदद और आंदोलन के फंड के लिए आए चंदे के पैसे से आप और आपके चाचा विपुलभाई ने महंगी कारें खरीदीं।"

चिराग और केतन पाटीदार अनामत आंदोलन समिति (पीएएएस) के प्रमुख सदस्य हैं। उनके आरोप पाटीदार आरक्षण आंदोलन में टूट के संकेत हैं।

Posted By:

  • Font Size
  • Close