वडोदरा/अहमदाबाद (एजेंसी/ब्यूरो)। सरदार वल्लभभाई पटेल की 63वीं पुण्यतिथि पर आज यानी 15 दिसंबर को 'रन फॉर यूनिटी' का आयोजन किया गया है। अखंड भारत के शिल्पी सरदार पटेल की 182 मीटर ऊंची प्रतिमा बनाने में अभियान में जुटी गुजरात सरकार ने रविवार को देशभर में 1000 से ज्यादा स्थलों से 'रन फॉर यूनिटी' मैराथन का आयोजन किया है।

भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी अहमदाबाद में, मुख्यमंत्री मोदी वडोदरा मैराथन को हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। भाजपा अध्यक्ष राजनाथ सिंह तथा राज्यसभा में नेता विपक्ष अरुण जेटली नई दिल्ली में जबकि लोकसभा में नेता विपक्ष सुषमा स्वराज भोपाल में मैराथन को हरी झंडी दिखाएंगी।'रन फॉर यूनिटी' नामक दौड़ सुबह 8 बजे से शुरू होकर 11 बजे तक चलेगी। इसमें एक साथ 45 लाख से ज्यादा लोग इस दौड़ का हिस्सा बनेंगे। 29 राज्यों और 6 केंद्रशासित प्रदेशों में इसका आयोजन हो रहा है।

यह दौड़ भारत के लौहपुरुष सरदार वल्लभभाई पटेल को श्रद्धांजलि देने के लिए आयोजित की जा रही है, जिन्होंने आजाद भारत के 565 रियासतों को एकता के सूत्र में पिरोया है। इतने बड़े पैमाने पर इस तरह की दौड़ भारत में पहले कभी नहीं हुई है। इसमें भाग लेने के लिए सबको आमंत्रित किया गया है। दौड़ में दो वर्ग हैं। 1. द यूनिटी रनः इसमें 12 साल से अधिक उम्र का कोई भी व्यक्ति भाग ले सकता है। 2. द यूनिटी मार्चः दौड़ के इस हिस्से में परिवार और वरिष्ठ नागरिक भाग ले सकते हैं।

स्टैच्यू ऑफ यूनिटी अभियान सरदार पटेल की तरह हर भारतीय को एकजुट करना है। उन मूल्यों- एकता, बेहतर शासन और मूलभूत विकास को वापस पाना है, जिसके लिए सरदार खड़े हुए थे। 182 मीटर की अनुमानित ऊंचाई वाली स्टैच्यू ऑफ यूनिटी विश्व की सबसे बड़ी प्रतिमा होगी। प्रतिमा के लिए 3 लाख गांवों के छह लाख किसानों से लोहा लिया जाएगा। दौड़ के विजेताओं को खास पुरस्कारों से नवाजा जाएगा। इसमें स्टैच्यू ऑफ यूनिटी से संबंधित उत्पाद और पदक दिए जाएंगे। हिस्सा लेने वालों को प्रमाण पत्र भी दिए जाएंगे। मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी भारत को सरदार पटेल ने एकता के सूत्र में पिरोया। अब समय आ गया है कि श्रेष्ठ भारत के निर्माण के लिए हम अपनी बंटी हुए शक्ति को एकीकृत कर एकजुट हों।

Posted By:

  • Font Size
  • Close