वडोदरा। गुजरात के विभिन्न शहरों में बीते 48 घंटों से भारी बारिश हो रही है। खासतौर पर वडोदरा शहर में 14 घंटे में 18 इंच बारिश हुई है। शहर टापू बन गया है। इस कारण गुजरात से होकर गुजरने वाली ट्रेनों पर भी असर पड़ा है। बुधवार रात 8 बजे के बाद सूरत से एक भी ट्रेन वडोदरा या अहमदाबाद की ओर रवाना नहीं की जा सकी। इन ट्रेनों को अलग-अलग स्टेशनों पर रोक दिया गया है। सूरत से अहमदाबाद, वडोदरा की ओर आने वाली लगभग दो दर्जन ट्रेनों पर प्रभाव पड़ा है। वहीं 12917 गुजरात संपर्क क्रांति एक्सप्रेस, 19309 इन्दौर शांति एक्सप्रेस, 1163 सोमनाथ-जबलपुर एक्सप्रेस, 19422 पटना-अहमदाबाद एक्सप्रेस को डायवर्ट किया गया है।

वड़ोदरा में 18 इंच बारिश से तबाही, सभी स्कूलों में छुट्टी, मुख्यमंत्री ने बुलाई समीक्षा बैठक

वड़ोदरा में बुधवार को बारिश ने तबाही मचा दी है। भारी बारिश के कारण सड़क, रेल व हवाई यातायात प्रभावित हुआ है। वडोदरा शहर में जिला कलेक्टर ने 1 अगस्त के दिन तमाम स्कूल व कॉलेजों को बंद रखने का आदेश दिया है।

मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने भी समीक्षा बैठक कर दो आईएएस अधिकारी, विनोद राव और लोचन शहेरा को तत्काल वडोदरा पहुंचने का आदेश दिया है। उधर, बचाव राहत कार्रवाई के लिए गांधीनगर से एनडीआरएफ की टीम वडोदरा रवाना की गई है।

वडोदरा में पिछले 24 घंटे से बारिश हो रही है। बुधवार दोपहर 12 बाद मूसलाधार बारिश से जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है। महज 14 घंटे में 18 इंच बारिश होने से अकोटा, विश्वामित्री, आजवारोड, मच्छीपीठ नगरवाडा, सलाटवाडा, कारेलबाग, फतेगंज क्षेत्रों में सड़के पानी में डुब गई, जिसके कारण वाहन चालकों मुश्किलों का सामना करना पड़ा। वघोडिया, आजवा , लक्ष्मीनगर सहित के ज्यादा तर इलाकों में लोगों के घरों पानी घुस गया है।

यह भी पढ़ें: आखिरी होगा 7th Pay Commission, अब ऐसे तय होगी केंद्रीय कर्मचारियों की सैलरी: रिपोर्ट

भारी बारिश के कारण विश्वामित्री नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है। शाम 9 बजे विश्वामित्री नदी का जल स्तर 26 फुट तक पहुंच गया है। प्रशासन ने विश्नामित्री नदी के किनारे बसे गांवों के लोगों को अलर्ट कर दिया है।

यह भी पढ़ें: भगवान महाकाल को हीरे जड़ित सोने के त्रिनेत्र भेंट

Posted By: Arvind Dubey

  • Font Size
  • Close