अहमदाबाद (ब्यूरो)। अपने खिलाफ लगे दुष्कर्म के मामले को कमजोर करने के लिए पुलिस और न्यायपालिका को रिश्वत देने की साजिश मामले में सोमवार को नारायण साईं की आवाज का परीक्षण (वॉइस स्पेक्ट्रोग्राफी टेस्ट) हुआ। इस बीच, आसाराम की पत्नी लक्ष्मी और पुत्री भारती के अलावा चार साधिकाओं को रिमांड पर लेने की पुलिस की अर्जी अदालत ने खारिज कर दी।

पुलिस सूत्रों ने बताया कि नारायण साईं की आवाज का गांधीनगर स्थित फोरेंसिक साइंस लेबोरेटरी में परीक्षण हुआ। इससे पता लगाने में मदद मिलेगी कि रिश्र्वत की पेशकश करने वाला कहीं नारायण साईं ही तो नहीं था। बता दें कि रिश्वत बांटने के लिए करीब 15 करोड़ रुपयों का इंतजाम किया गया था। इसमें से पांच करोड़ रुपये बरामद भी हुए थे।

उधर, पुलिस ने जिला जज के समक्ष आसाराम की पत्नी, पुत्री और आश्रम की चार साधिकाओं को रिमांड पर सौंपने की मांग की थी। लेकिन कोर्ट ने पुलिस की मांग ठुकरा दी। पुलिस ने गत दिनों लक्ष्मी व भारती से करीब चार घंटे तक पूछताछ की थी। यह दोनों गांधीनगर जिला एवं सत्र अदालत से अग्रिम जमानत पर हैं।

वकील गया जेल

सूरत (ब्यूरो)। नारायण साईं की फरारी के दौरान उसकी मदद के आरोप में हरियाणा के पानीपत से गिरफ्तार वकील निशांत राज को जेल भेज दिया गया है। पुलिस ने उसे नोटिस भेजकर पूछताछ के लिए बुलाया था।

नोटिस मिलने पर रविवार को सूरत पहुंचे वकील को पुलिस ने देर शाम नारायण की मदद करने के आरोप में गिरफ्तार कर लिया। सूरत पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार वकील को अदालत में पेश कर रिमांड की मांग की थी, लेकिन अदालत ने पुलिस की अर्जी खारिज करते हुए वकील को जेल भेज दिया। पुलिस का कहना है कि राज ने नारायण को फरारी के दौरान हर प्रकार की मदद दी थी। उसने नारायण को एक कार भी दी।

Posted By:

  • Font Size
  • Close