सूरत। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि वह नहीं चाहते कि लोग उनकी साधारण पृष्ठभूमि पर तरस खाएं। क्योंकि अपनी इस पृष्ठभूमि को लेकर वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ उनकी कोई स्पर्धा नहीं है।

पूर्व प्रधानमंत्री से शनिवार को पूछा गया कि वह मोदी की तरह अपनी पृष्ठभूमि पर बात क्यों नहीं करते हैं? मोदी अक्सर कहा करते हैं कि बचपन में परिवार को सहारा देने के लिए गुजरात के स्टेशन पर वह चाय बेचा करते थे।

उन्होंने इसी सवाल के जवाब में कहा। नोटबंदी और जीएसटी को लेकर मनमोहन ने प्रधानमंत्री मोदी पर हमला भी किया। उन्होंने कहा कि मोदी अपने इन दोनों फैसलों की पीड़ा समझने में विफल रहे।

स्थानीय कारोबारियों की एक सभा में पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि जब नोटबंदी के झटके से आप उबर रहे थे तब जीएसटी आ गया।

किसी से भी संपर्क नहीं किया गया और यह समझने का प्रयास भी नहीं हुआ कि आपका धंधा (कारोबार) कैसे चलेगा।

मनमोहन ने कहा, 'आपका कारोबार विश्वास और रिश्तों पर टिका है। एक दूसरे पर भरोसा किए बगैर सूरत ढह जाएगा।

आपने प्रधानमंत्री और उनके अच्छे दिन के वादे में भरोसा किया था। आज उम्मीद के ये सपने झूठ में बदल गए हैं।'

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस