अहमदाबाद (ब्यूरो)। अस्थाना ने बतया कि हिन्दू महासभा के अध्यक्ष चक्रपाणी अपना जबाब लिखाने के लिए सोमवार सुबह सूरत आये थे। करीब 7 घंटों तक पूछताछ में उन्होंने यही कहा कि उनके नारायण साईं और आसाराम से पुराने रिश्ते हैं और फरारी के वक्त उनकी नारायण साई से कोई बात या मुलाक़ात नहीं हुई थी। हिन्दू महा सभा का अध्यक्ष होने के नाते उन्हें जिम्मेदारी सौंपी गई है कि किसी भी संत महात्मा के खिलाफ आरोप लगता है वो तब तक उसका बचाव करें जब तक आरोप सिद्ध न हो जाये।

13 करोड़ की डील का प्लानर उदय

13 करोड़ की डील मामले में अस्थाना ने कहा कि अभी जांच चल रही है। फिलहाल जो सामने आया है वो ये कि आसाराम और नारायण का करीबी साधक उदय ही 13 करोड़ की डील का प्लानर है और यह प्लान उसने आसाराम और नारायण साईं की मंजूरी मिलने के बाद तैयार किया था।

Posted By:

  • Font Size
  • Close