अहमदाबाद। चीन में सैकड़ों मौतों के लिए जिम्मेदार Coronavirus भारत में आ चुका है। इसके बाद अब अलग-अलग राज्यों में इसके संदिग्ध मामले भी प्रकाश में आ रहे हैं। इसी कड़ी में गुजरात में नोवेल कोरोना वायरस से संक्रमण के दो शंकास्‍पद मामले सामने आए हैं, दोनों संदिग्‍ध व्‍यक्तियों को सिविल अस्‍पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। सरकार का कहना है कि राज्‍य में कोरोना का एक भी पॉजिटिव केस नहीं है इसलिए घबराएं नहीं लेकिन सतर्क रहें।

राज्‍य की स्‍वास्‍थ्‍य सचिव डॉ जयंती रवि ने बताया कि केंद्र सरकार की ओर से भेजी गई तीन सदस्‍यीय मेडिकल टीम राज्‍य सरकार के प्रयास व कोरोना से बचाव के लिए उठाए गए कदमों से संतुष्‍ट हैं। राज्‍य से आठ सेम्‍पल जांच के लिए पुणे लेबोरेटरी में भेजे गए थे इनमें से 5 नेगेटिव हैं जबकि 3 की रिपोर्ट आना शेष है।

डॉ. रवि ने बताया कि विश्‍व स्‍वास्‍थ्‍य संगठन की ओर से कोरोना को पब्लिक हेल्‍थ इमरजेंसी ऑफ इन्‍टरनेशनल कन्‍सर्न घोषित किया गया है लेकिन गुजरात में कोरोना का एक भी पॉजिटिव केस नहीं है। इसको लेकर घबराने की जरुरत नहीं है। सर्दी, बुखार व खांसी हो तो विशेष ध्‍यान रखने की जरुरत है।

अहमदाबाद एयरपोर्ट पर चीन अन्‍य देश से आने वाले देशी विदेशी यात्रियों की स्‍क्रीनिंग, सिविल अस्‍पताल में आइसोलेशन वार्ड भी बनाया गया है। गुजरात में अब तक चीन से 930 यात्री लौटे हैं इनमें से 246 ने 14 दिन का निगरानी पीडियड भी पूरा किया है।

जयंती रवि ने बताया कि दुनिया में सबसे अधिक 99 फीसदी मामले चीन के वुहान शहर में है, इस वायरस के चलते मौत की दर 2 फीसदी है। भारत के केरल प्रांत में 3 व्‍यक्ति कोरोना से संक्रमित पाए गए जो निगरानी में रखे गये हैं। सफदरजंग हॉस्‍पीटल नई दिल्‍ली के मेडिसिन विभाग के प्रो नवंग ने बताया कि गुजरात में कोरोना वायरस से बचाव के लिए सभी आवश्‍यक व्‍यवस्‍थाएं की गई हैं, बी जे मेडिकल कॉलेज अहमदाबाद में 30 बेड के अस्‍पताल की व्‍यवस्‍था के साथ आईसीयू, वेंटीलेटर, आवश्‍यक मास्‍क तथा 24 घंटे चिकित्‍सक की सुविधा की गई है।

डॉ. मनीषा ने बताया कि जल्‍द ही बी जे मेडिकल कॉलेज पर एक किट रखी जाएगी ताकि कोरोना की जांच हो सके तथा जांच के लिए सेम्‍पल पुणे नहीं भेजना पडे।

Posted By: Ajay Barve

fantasy cricket
fantasy cricket