अहमदाबाद। बीएपीएस स्वामीनारायण संप्रदाय के प्रमुख स्वामी महाराज का लंबी बीमारी के बाद शनिवार को निधन हो गया। 7 दिसंबर, 1921 को जन्मे बीएपीएस (बोचासण वासी अक्षर पुरुषोत्तम संप्रदाय) के प्रमुख स्वामी की उम्र 94 साल थी। प्रमुख स्वामी का अहमदाबाद से करीब 100 किमी दूर सालंगपुर नामक स्थान पर कई महीनों से इलाज चल रहा था और वह वेंटिलेटर पर थे।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उपाध्यक्ष राहुल गांधी ने 95 वर्षीय इस आध्यात्मिक नेता को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी ने एक ट्वीट में उन्हें अपना परामर्शदाता बताया। अपने ट्वीट में उन्‍होंने लिखा कि वह उनके दिल में हमेशा जिंदा रहेंगे।

मालूम हो कि दुनियाभर में जितने भी अक्षरधाम मंदिर हैं, वे सभी बीएपीएस समुदाय के ही हैं। बीएपीएस प्रमुख स्वामी को गुणातीतानंद स्वामी, भगतजी महाराज, शास्त्री जी महाराज और योगीजी महाराज के बाद स्वामीनारायण संस्था का पांचवां उत्तराधिकारी मानते हैं।

प्रमुख स्वामी को हिंदू स्वामी के रूप में बीएपीएस के संस्थापक शास्त्री जी महाराज ने 1940 में दीक्षा दी थी। बाद में साल 1950 में उन्होंने प्रमुख स्वामी को बीएपीएस का अध्यक्ष घोषित किया। योगी जी महाराज ने प्रमुख स्वामी को अपना आध्यात्मिक उत्तराधिकारी और बीएपीएस का गुरु घोषित किया। प्रमुख स्वामी 1971 से ही बीएपीएस के आध्यात्मिक गुरु रहे।

Posted By:

  • Font Size
  • Close