अहमदाबाद। राज्य में इस महीने तापमान 41 डिग्री के पार जा चुका है और इस वजह से भीषण गर्मी और लू ने लोगों को जीना मुहाल कर दिया है। हालांकि, रविवार को इस भीषण गर्मी से लोगों को काफी राहत महसूस हुई है। वेस्टर्न डिस्टरबेंस के प्रभाव से रविवार शाम से मौसम में बदलाव आया है और रात में नर्मदा के सागरबाड़ा और डांग-वाघई तालुकों में कई स्थानों पर बारिश हुई है।

अचानक हुई बारिश और आंधी से भले ही तामपान में कमी आई और लोगों ने राहत की सांस ली हो लेकिन किसानों के माथे पर चिंता की लकीरें नजर आ रही हैं। दरअसल, बेमौसम बारिश के कारण किसानों की फसलों और आमों को नुकसान होने के डर से उनकी मुसीबत और बढ़ गई है। राज्य के कई शहरों में आज भी सुबह से बादल छाए हुए थे।

गर्मी के कारण लोगों को चक्कर आ रहे हैं

रविवार को अहमदाबाद सहित राज्य के सात शहरों में पारा 41 डिग्री से अधिक था। अहमदाबाद में गर्मी के कारण चक्कर आने और बेहोश होने के 37 मामले सामने आए। 108 के आंकड़ों के अनुसार, अहमदाबाद, वडोदरा, राजकोट और सूरत में पिछले 24 घंटों में 156 लोग गर्मी की वजह से चक्कर आने से प्रभावित हुए।

राज्य में गरज के साथ वर्षा की संभावना

मौसम विभाग के अनुसार, वेस्टर्न डिस्टर्बंस की वजह से सौराष्ट्र-कच्छ के तटों पर मौसम का असर नजर आएगा। इसकी वजह से कई क्षेत्रों में बारिश हो सकती है। बदलते मौसम की वजह से राज्य में 14 से 17 तारीख तक भारी बारिश होने की संभावना है।

दक्षिण गुजरात और कच्छ में बारिश

नवसारी जिले के वांसदा में मौसम ने पलटा खाया है और बिरश का मौसम बना हुआ है। वांसदा में बारिश के मौसम को लेकर किसान चिंतित हैं। मौसम के बदलाव और बारिश की वजह से आम को भारी नुकसान की आशंका है। इसके अलावा, सोनागढ़ क्षेत्र में बादल छाए हुए हैं। रात में भी इलाके में हल्की बारिश हुई है। इसके बाद आज दिन में भी बारिश की आशंका जताई गई है। इसके अतिरिक्त, गांधीधाम भुज सहित कच्छ के अधिकांश हिस्सों में मौसम बदला है। अचानक वातावरण में ठंडी हवा चलने लगी।

Posted By: Ajay Barve