अहमदाबाद। गुजरात के अमरैली जिले के राजुला प्राथमिक स्कूल में कार्यरत एक शिक्षिका ने फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। शिक्षिका के पति अल्ट्राटेक सिमेंट कंपनी में कार्यरत है। तीन माह पूर्व उनका महाराष्ट्र में तबादला हो गया था। पति के तबादले के बाद से ही शिक्षिका तनाव में रहने लगी थी। पुलिस को मृतिका के पास से एक सुसाइट नोट भी मिला है, जिसकी जांच की जा रही है।

राजुला पुलिस ने बताया कि कोवाय गंव निवासी एक राजुल प्राथमिक स्कूल में कार्यरत ईलाबेन राजेशभाई परमार (45) ने बुधवार को अपने पिता प्रवीण भाई के घर फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली है। शव के पास से एक सुसाइट नोट मिला है। जिसमें उन्होंने अपने पिता को संबोधित करते हुए लिखा है कि, 'आप सबने हमारे लिए बहुत कुछ किया है, मैं हताश हो गई हूं, बच्चों का ख्याल रखना।'

पुलिस ने बताया कि, परिजनों से पूछताछ में पता चला है कि ईला बेन के पति राजशे लवजी भाई परमार कोवाया गांव में स्थित अल्ट्राटेक प्लांट में कार्यरत थे। लेकिन, तीन महीने पूर्व उनका महाराष्ट्र के एक प्लांट में तबादला हो गया था। पति का तबादला होने से ईला बेन दुःखी हो गयी थी। इसके बाद से वे अपने पिता के घर रहने लगी थी। पुलिस ने बाताया कि परिजनों ने बताया कि ईलाबेन हमेशा अपने पति को लेकर चिंतित रहती थी। उनका पुत्र साथ में रहता है लेकिन दूसरा पुत्र विधानगर में रहकर पढ़ाई कर करता है। वह अपने पति से दूर रहकर काफी तनाव में थी। इसलिए उन्होंने यह कदम उठा लिया। पुलिस ने बताया कि गुरुवार को शव का पोस्मोर्टम किया गया है। फिलहाल आगे की कार्रवाई शुरु कर दी है।