रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड ने ग्लोबल फूड चेन ‘प्रेट ए मोंजेएर’ से हाथ मिलाया

प्रेट ए मोंजेएर की पहली फूड शॉप 1986 में लंदन में खोली गई थी। जहां हाथों से बना ताजा रेडी-टू-इट खाना परोसा जाता था।

Updated: | Sat, 02 Jul 2022 11:23 AM (IST)

रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड (आरबीएल) ने मशहूर फूड चेन ब्रांड ‘प्रेट ए मोंजेएर’ के साथ रणनीतिक साझेदारी की घोषणा की है। ‘प्रेट ए मोंजेएर’ ब्रांड को भारतीय बाजारों में मजबूती देने के लिए दोनों कंपनियां मिलकर काम करेंगी। ‘प्रेट ए मोंजेएर’ दुनिया भर में अपने ताजा खाने और जैविक कॉफी के लिए मशहूर है। इस फ्रैंचाइज़ी साझेदारी के साथ, रिलायंस ब्रांड्स अब देश भर के प्रमुख शहरों में फूड चेन खोलेगा।

प्रेट ए मोंजेएर की पहली फूड शॉप 1986 में लंदन में खोली गई थी। जहां हाथों से बना ताजा रेडी-टू-इट खाना परोसा जाता था। ब्रांड की वर्तमान में यूके, यूएस, यूरोप और एशिया सहित 9 देशों में 550 फूड शॉप हैं। उधर रिलायंस ब्रांड्स को भारत के सबसे बड़े लक्जरी और प्रीमियम रिटेलर के रूप में जाना जाता है। पिछले 14 वर्षों में कंपनी ने दुनिया भर के ब्रांडों को डेवलेप किया है।

रिलायंस ब्रांड्स लिमिटेड के एमडी दर्शन मेहता ने कहा कि "प्रेट के साथ हमारी साझेदारी भारत में खाद्य और पेय उद्योग की मजबूत विकास क्षमता में निहित है। आरबीएल भारतीय उपभोक्ताओं की नब्ज पर बारीक नजर रखता है। ग्राहकों में खाने को लेकर जागरूकता बढ़ी है – रेडी-टू-इट भोजन नया फैशन बन रहा है। दुनिया भर की तरह भारतीय भी ताजा और जैविक सामग्री से बने भोजन का अनुभव लेना चाहते हैं, प्रेट उनकी मांग को अच्छे से पूरा करने में सक्षम है।”

प्रेट ए मोंजेएर के सीईओ, पैनो क्रिस्टोउ ने कहा: "दो दशक पहले, हमने एशिया में प्रेट की पहली दुकान खोली थी और यह हमारे लिए एक प्रेरणा रही है कि हम अपने ताज़े भोजन और 100% ऑर्गेनिक कॉफ़ी को पूरे महाद्वीप के नए शहरों में लाएँ। आरबीएल अपनी विशेषज्ञता से हमारे ब्रांड को भारत में सफल बनाने में मदद करेगा। हम उनके साथ काम करने के लिए उत्सुक हैं जो हमारी अब तक की सबसे महत्वाकांक्षी वैश्विक फ्रैंचाइज़ी साझेदारी है।

Posted By: Arvind Dubey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.