ED ने Amazon India के हेड को भेजा समन, फ्यूचर ग्रुप डील मामले में फेमा नियमों के उल्लंघन का आरोप

Updated: | Sun, 28 Nov 2021 04:12 PM (IST)

प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने फ्यूचर ग्रुप (Future Group) के साथ एक डील के मामले में अमेजन इंडिया के हेड अमित अग्रवाल (Amit Agarwal) को समन जारी किया है। ED इस बात की जांच कर रहा है कि क्या इस डील में विदेशी मुद्रा पर भारत के कानून या विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम (Foreign Exchange Management Act - FEMA) का उल्लंघन किया गया है या नहीं? बता दें कि साल 2019 में Amazon ने 1,400 करोड़ के डील के तहत Future Coupons Pvt Ltd (FCPL) की 49 फीसदी हिस्सेदारी खरीदी थी। इसी बाबत पूछताछ के लिए अमित अग्रवाल को अगले हफ्ते बुलाया गया है। अमेजन ने एक बयान जारी कर इसकी पुष्टि की है। इसमें कहा गया है कि हमें फ्यूचर ग्रुप के मामले में ED से समन (summon) मिला है। हम इसकी जांच कर रहे हैं और दिए गए समय-सीमा के भीतर इसका जवाब देंगे।

क्या है ये डील?

FCPL की Future Retail Ltd (FRL) में भी 9.82 फीसदी हिस्सेदारी है। इस डील ने एमेजॉन को न सिर्फ अप्रत्यक्ष रूप से फ्यूचर रिटेल में 4.81 फीसदी हिस्सेदारी रखने की मंजूरी दी, बल्कि उसे लिस्टेड रिटेल कंपनी पर वीटो पॉवर भी मिल गया। इसी के बल अमेजन कई न्यायालयों में फ्यूचर रिटेल पर नियंत्रण के अधिकारों (controlling rights) का दावा कर रहा है। इसे लेकर दिल्ली हाईकोर्ट ने भी टिप्पणी की थी कि ऐसा लगता है कि अमेजन ने बिना सरकार की मंजूरी के अप्रत्यक्ष तौर पर फ्यूचर रिटेल का कंट्रोल हासिल किया है।

दरअसल, किशोर बियानी की अगुवाई वाले फ्यूचर रिटेल ने अपनी एसेट को मुकेश अंबानी के साथ 2400 करोड़ रुपये में बेचने का करार किया, तो अमेजन ने इस पर अपनी आपत्ति जताई और निवेश समझौते का उल्लंघन करने का आरोप लगाया। तभी से अमेजन और फ्यूचर एक दूसरे के खिलाफ कानूनी लड़ाई में उलझे हैं।

Posted By: Shailendra Kumar