BSE Sensex सहित दुनिया के बाजारों में भी गिरावट का असर, दिग्गज अरबपतियों की संपत्ति में भारी कमी

पिछले 5 सत्रों में निफ्टी में 1000 अंक से अधिक की गिरावट देखी गई। निवेशक आगे चलकर उच्च अस्थिरता के लिए तैयार हैं।

Updated: | Mon, 24 Jan 2022 05:09 PM (IST)

World Market News । बीते एक सप्ताह से दुनियाभर के शेयर मार्केट में भारी गिरावट देखने को मिली है। भारत में BSE के 30 कंपनियों वाले इंडेक्स सेंसेक्स और NSE के इंडेक्स निफ्टी में भारी गिरावट देखी गई। सोमवार को सेंसेक्स 59,023.97 अंक पर खुला था, 59,037.18 अंक पर बंद हुआ था। इसके बाद सोमवार को बाजार खुलने के साथ से ही सेंसेक्स में भारी गिरावट देखी गई, बंद होने के समय तक गिरावट अपने आज से उच्च स्कोर को छूकर नीचे आई।

एलन मस्क, जेफ बेजोस और बिल गेट्स की संपत्ति में गिरावट

वहीं दुुनिया के शेयर बाजार में भी गिरावट के कारण पांच सबसे अमीर अरबपतियों में शामिल हस्तियों के संपत्ति में भी 85 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है। ब्लूमबर्ग बिलियनेयर्स इंडेक्स के मुताबिक दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति, एलन मस्क को अनुमानित 243 अरब डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है, जो कि वर्ष की शुरुआत की तुलना में लगभग 27 अरब डॉलर कम है। इसके अलावा दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्यक्ति में से एक अमेजन के संस्थापक जेफ बेजोस को 2022 में लगभग 25 अरब डॉलर का नुकसान हुआ है।

साथ ही माइक्रोसॉफ्ट को-फाउंडर बिल गेट्स को 1 जनवरी से अपने नेट वर्थ में 9.5 अरब डॉलर का नुकसान उठाना पड़ा है। सर्च इंजिन गूगल के संस्थापक लैरी पेज की कुल संपत्ति में 12 अरब डॉलर की कमी आई है। साथ ही मार्क जुकरबर्ग की कुल संपत्ति में भी इस साल लगभग 12 अरब डॉलर की गिरावट आई है।

ऐसा रहा भारतीय बाजार का हाल

BSE सेंसेक्स 1545.67 अंक टूटकर 57,491.51 अंक पर बंद हुआ। हालांकि, दिन में कारोबार के दौरान सेंसेक्स में 1900 अंक से भी ज्यादा तक की गिरावट देखी गई थी। सेंसेक्स की सभी कंपनियां लाल निशान पर कारोबार करती देखी गई। सोमवार को निफ्टी 17,575.15 अंक पर खुला था, जो 468.05 अंक टूटकर 17,149.10 अंक पर बंद हुआ। इस दौरान बाजार खुलने के बाद यह सबसे ऊपर सिर्फ 17,599.40 अंक तक गया था, जबकि यह 16,997.85 अंक के निचले स्तर तक भी पहुंच गया था।

शेयर बाजार में गिरावट पर जानकारों की राय

शेयर बाजार में लगातार गिरावट पर एलकेपी सिक्योरिटीज के शोध प्रमुख एस रंगनाथन ने कहा कि FED बैठक से पहले कमजोर वैश्विक संकेतों ने हाल ही में सूचीबद्ध फर्मों और उच्च FII स्वामित्व वाले शेयरों में भारी बिकवाली देखी गई। दोपहर के कारोबार में VIX 25% से अधिक चढ़ा और बीएसई सेंसेक्स 57K के निशान तक पहुंच गया तथा सभी सेक्टोरल इंडेक्स गहरे लाल रंग में थे। पिछले 5 सत्रों में निफ्टी में 1000 अंक से अधिक की गिरावट देखी गई। निवेशक आगे चलकर उच्च अस्थिरता के लिए तैयार हैं।

इसके अलावा जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के शोध प्रमुख विनोद नायर का कहना है कि वैश्विक बाजारों में बिकवाली, तीसरी तिमाही के कमजोर नतीजे और बजट पूर्व घबराहट के कारण घरेलू शेयर बाजारों में भारी बिकवाली हुई। नायर का कहना है कि गिरावट सभी सेक्टर में देखने को मिली है लेकिन नए जमाने की टेक कंपनियों के शेयर महंगे वैल्यूएशन के बीच मुनाफे की वृद्धि में गिरावट के कारण सबसे ज्यादा प्रभावित हुए।

Posted By: Sandeep Chourey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.