HamburgerMenuButton

10 वर्षों से हनुमान जयंती पर सरकारी अवकाश की अर्जी लगा रहे बजरंगबली के एक भक्त

Updated: | Sun, 25 Oct 2020 01:58 PM (IST)

बिलासपुर। अश्वनी कुमार किंकर पिछले 10 सालों से शासन-प्रशासन से हनुमान जयंती पर सरकारी अवकाश की अर्जी लगा रहे हैं। उनका कहना है कि जब सरकार और स्थानीय प्रशासन अनेक जयंती व पर्व पर छुट्टियां दे सकते हैं तो हनुमान जयंती पर क्यों नहीं। वे अब तक पूर्व मुख्यमंत्री से लेकर वर्तमान मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंप चुके हैं। लेकिन अभी तक उन्हें सफलता नहीं मिली है।

लोरमी के पास स्थित ग्राम पैजनिया निवासी अश्विनी कुमार हनुमान भक्त हैं। उनका कहना है कि आज संपूर्ण विश्व कोरोना महामारी के साथ ही नक्सलवाद और घुसपैठ की समस्या से जूझ रहा है। चारों ओर त्राहि-त्राहि है। ऐसे में संकटमोचन किसी को नजर नहीं आते हैं लेकिन संकट से मुक्ति की कामना लिए आदिकाल से लोग उनकी ही शरण में जाते है। साथ ही हमारी धार्मिक भावना के साथ ही वे हामारी आस्था के प्रतीक भी है। ऐसे में उनके जन्मोत्सव पर शासकीय अवकाश होना चाहिए। चैत्र पूर्णिमा में मनने वाले रामभक्त हनुमान जी की जयंती पर ग्राम पैजनिया बाजारपारा बजरंग मंदिर के संरक्षक श्रीकिंकर 2011 से अवकाश के लिए प्रयास कर रहे है। उनका कहना है कि जब अनेक जयंती पर्व पर अवकाश मिलता है तो इसमें भी मिलना चाहिए।

करेंगे अनशन

उनका कहना है कि अभी तक मुझे सिर्फ आश्वासन ही मिला है। लेकिन, यदि सरकार हनुमान जयंती पर अवकाश घोषित नहीं करती है तो वह इसके लिए अनशन भी करेंगे।

बांटते है किताब भी

वे सचित्र हनुमान चालीसा भी बांटते है। किताब में संकलित चित्रों का कलेक्शन भी उन्होंने स्वयं ही किया है। वे 2011 से किताब निशुल्क ही बांट रहे है। एक किताब का खर्च सौ स्र्पये आता है। फिर भी लगातार हनुमान भक्ति की अलख जगाने किताब निशुल्क बांटते है। इसके साथ ही हनुमान जयंती पर्व पर वे भंडारा भी लगाते आ रहे है।

जाते है विधानसभा सत्र में

हनुमान जयंती पर शासकीय अवाकश की मांग को पूरा करवाने के लिए वे विधानसभ के सत्र में भी जाते है और अपनी बात रखते है साथ ही चालिसा का वितरण भी करते है। लेकिन उन्हें अभी तक कोई सफलता नहीं मिली।

Posted By: Prashant Pandey
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.