Bilaspur Railway News: छह माह की उम्र के बाद सीजर, ब्रूनो व चार्ली श्वान को भेजेंगे प्रशिक्षण लेने

Updated: | Mon, 20 Sep 2021 11:39 PM (IST)

बिलासपुर। Bilaspur Railway News: आरपीएफ के तीन श्वान सीजन, ब्रूनो व चार्ली को छह माह की उम्र होने के बाद प्रशिक्षण के लिए भेजा जाएगा। नारकोटिक्स का जिस श्वान को प्रशिक्षण देना है, उसे पुणे भेजना तय है। बचे दो कहां प्रशिक्षण लेंगे। अभी रेलवे बोर्ड से दिशा- निर्देश नहीं आया है। अभी इनकी उम्र तीन से पांच महीने की है। स्टेशन व ट्रेनों की सुरक्षा को लेकर आरपीएफ गंभीर है। डाग स्क्वाड भी इसी का हिस्सा है। अभी आरपीएफ के डाग स्क्वाड में दो ही श्वान हैं। दोनों ट्रैकर का प्रशिक्षण ले रहे हैं।

जबकि गांजा, अफीम, चरस के अलावा विस्फोटक चीजों को पकड़ने वाले श्वान की आवश्यकता महसूस की जा रही थी। इसे देखते हुए ही नए श्वान खरीदने का प्रस्ताव बनाया गया। सुरक्षा से जुड़ा प्रस्ताव होने के कारण स्वीकृति मिलने में दिक्कत नहीं गई। पिछले दिनों ही तीन नए श्वान बेंगलुरु से खरीदकर बिलासपुर लाए गए। इन्हें बैरक में जो केज है वहां रखा गया है। यहां तीनों को हैंडलर सामान्य प्रशिक्षण दे रहे हैं। पर जिस उद्देश्य से तीनों को लाया गया है वह प्रशिक्षण बाद में होगा।

इसके लिए उनकी उम्र छह माह होने का इंतजार किया जा रहा है। तब तक तीनों श्वान को बिलासपुर में रखकर प्रशिक्षण दिया जाएगा। मालूम हो कि जब इन्हें बिलासपुर लाया गया, उसी समय आरपीएफ के अधिकारियों ने तीनों का नामकरण भी कर दिया। वरिष्ठ मंडल सुरक्षा आयुक्त आरके शुक्ला ने बताया कि सीजर श्वान नारकोटिक्स पकड़ने का प्रशिक्षण लेने के लिए पुणे जाएगा।

यह तय है। पर ब्रूनो व चार्ली एक्सप्लोसिव डिटेक्टर में परिपक्व होने के लिए कहां जाएंगे, इसका निर्धारण रेलवे बोर्ड से होगा। इसके लिए दिशा- निर्देश मांगा गया। प्रशिक्षण स्थल घोषित होने के बाद श्वान को प्रशिक्षण केंद्रों के लिए भेज दिया जाएगा। वह प्रशिक्षण केंद्र हैंडलर के साथ जाएंगे।

Posted By: sandeep.yadav