भाजपा सांसदों का रवैया छत्तीसगढ़िया हक और हित के खिलाफ: अटल

Updated: | Thu, 09 Dec 2021 09:00 AM (IST)

बिलासपुर। पर्यटन मंडल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने कहा है कि छत्तीसगढ़ में भाजपा के नौ लोकसभा सांसद और दो राज्यसभा सदस्य हैं, लेकिन जब भी छत्तीसगढ़ और छत्तीसगढ़िया के हक और अधिकारों की बात होती है, जनता के प्रति अपना दायित्व निभाने के बजाय इन भाजपाई सांसदांे की प्राथमिकता पूंजीवादी मोदी सरकार की चापलूसी कर अपना नंबर बढ़ाने में ही रहती है। छत्तीसगढ़ के आर्थिक हितों के खिलाफ केंद्र की उपेक्षा और दुर्भावनापूर्वक व्यवहार लगातार उजागर हुआ है।

केंद्रीय बजट में प्रावधान राशि में से विगत तीन वर्षों का बकाया 13,089 करोड़, कोल पेनल्टी का बकाया 4,140 करोड़, केंद्रीय करो में राज्य का हिस्सा 3,408 करोड़ इस प्रकार कुल लगभग 20,637 करोड़ रुपये और इसके अतिरिक्त जीएसटी क्षतिपूर्ति राशि भी केंद्र के द्वारा रोकी गई है। कांग्रेस सांसद दीपक बैज, छाया वर्मा, फूलों देवी नेताम, केटीएस तुलसी और ज्योत्सना महंत ने लगातार सवाल किया है पर छत्तीसगढ़ के भाजपा सांसद प्रदेश के वित्तीय अधिकारों के इन विषयों पर मौन रहे। वित्तीय वर्ष खत्म होने से पहले ही पीएम आवास फंड निरस्त करना मोदी सरकार की बदनियति को प्रमाणित करता है।

छत्तीसगढ़ के सात लाख 81 हजार गरीबों के मकानों का लगभग 11 हज़ार करोड़ राज्य को वापस लौटाने की मांग मोदी सरकार से करने के बजाय भाजपा सांसद राज्य सरकार पर ही अनर्गल आरोप लगा रहे हैं। छग पर्यटन मंडल अध्यक्ष अटल श्रीवास्तव ने कहा है कि मोदी सरकार से छत्तीसगढ़िया जनता का सवाल है कि केंद्रीय योजनाओं में केंद्र की भागीदारी कम कर और राज्यांश बढ़ाकर राज्यों पर अतिरिक्त भार लादने के एकतरफा फैसले पर भाजपा सांसद मौन क्यों? विदित हो कि पूर्व में केंद्रीय योजनाओं में केंद्र और राज्य का हिस्सा 75:25 था, जिसे वर्ष 21-22 में मोदी सरकार ने बढ़ाकर 64:36 कर दिया है। राज्यों पर अतिरिक्त 11 फीसद राज्यांश की वृद्धि पर भाजपा सांसद मौन क्यों हैं।

Posted By: Yogeshwar Sharma