Bilaspur Crime News: अपहरण के आरोपितों को मुरादाबाद से लेकर शहर पहुंची पुलिस

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 10:19 PM (IST)

बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।Bilaspur Crime News: स्काई अस्पताल के संचालक के अपहरण के मामले में उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद व हरियाणा के पानीपत से गिरफ्तार दो डॉक्टर समेत पांच आरोपितों को लेकर शनिवार की देर रात पुलिस शहर पहुंची। उन्हें सरकंडा थाने में रखा गया है। इस दौरान उनसे पूछताछ कर जानकारी जुटाई जाएगी। फिर रविवार को उन्हें कोर्ट में पेश किया जाएगा। सरकंडा थाना प्रभारी परिवेश तिवारी ने बताया कि 20 सितंबर को राजकिशोर नगर स्काई अस्पताल के मैनेजर ने संचालक प्रदीप अग्रवाल के गायब होने के बाद गुम इंसान का मामला दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस की साइबर सेल की टीम अस्पताल संचालक की पतासाजी कर रही थी। तभी उनके अपहरण होने की बात सामने आई। बताया गया कि अपहरणकर्ताओं ने अस्पताल संचालक को दिल्ली एयरपोर्ट के पास छोड़ दिया। फिर अस्पताल संचालक दिल्ली से फ्लाइट में रायपुर आ गए। जहां से अस्पताल संचालक को शहर लाकर पुलिस ने पूछताछ की।

उनके बयान के आधार पर अस्पताल के डॉ. मोहम्मद आरिफ, डॉ. शैलेंद्र मसीह, टेक्नीशियन मोहम्मद फिरोज, दो ड्राइवर मोहम्मद रिजवान व मोहम्मद आरिफ के खिलाफ अपहरण का अपराध दर्ज किया गया। इसके बाद से पुलिस इन आरोपितों की तलाश में जुटी थी। उन्हें पकड़ने के लिए टीम उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद भेजी गई थी। टीम ने मुरादाबाद व पानीपत के अलग-अलग जगहों में दबिश देकर आरोपित डॉक्टरों और उनके साथियों को गिरफ्तार कर लिया।

पुलिस ने उन्हें स्थानीय कोर्ट में पेश कर ट्रांजिट रिमांड पर लिया। इस बीच शनिवार को उन्हें लेकर बिलासपुर के लिए रवाना हुई। देर रात पुलिस आरोपितों को लेकर सरकंडा थाना पहुंची। जहां आरोपितों से पूछताछ कर उनका बयान दर्ज किया जा रहा है। सभी आरोपितों को रविवार को कोर्ट में पेश किया जाएगा।

पुलिस ने नहीं की तस्दीक, डॉक्टरों को बना दिया आरोपित

इस घटना को लेकर पुलिस द्वारा की गई कार्रवाई पर तरह-तरह के सवाल उठ रहे हैं। कहा जा रहा है कि पुलिस ने बिना तथ्यों की जांच किए अस्पताल संचालक के बयान पर एकपक्षीय कार्रवाई की है। अस्पताल संचालक का अपहरण किया जाता तो वह अपनी मर्जी से अस्पताल से उनके साथ कैसे जाते। जब उन्हें बिलासपुर से पकड़कर ले जाया जा रहा था। तब उन्होंने कहीं भी किसी जगह विरोध क्यों नहीं किया। कथित अपहरण की इस घटना को लेकर ऐसे कई सवाल हंै। जिसका जवाब पुलिस व अस्पताल संचालक के पास भी नहीं है।

कहां से आया फ्लाइट का टिकट

अस्पताल संचालक ने पुलिस को बताया कि अपहरणकर्ताओं ने उन्हें दिल्ली एयरपोर्ट में छोड़ दिया। अब सवाल उठता है कि दिल्ली एयरपोर्ट में छोड़ने के बाद अस्पताल संचालक के पास फ्लाइट का टिकट कहां से आ गई। ऐसे और कई सवाल हैं जिससे अपहरण की कथित घटना को लेकर सवाल उठ रहे हंै। पुलिस ने इस घटना के बाद जगह-जगह वीडियो फुटेज खंगाल रही थी। अस्पताल संचालक के मिलने के बाद अपहरणकर्ता डॉक्टर व अस्पताल संचालक की जानकारी जुटाने व तथ्यों की जांच के लिए पुलिस ने फुटेज की जांच क्यों नहीं की।

अस्पताल संचालक के खिलाफ भी हो सकती है कार्रवाई: एसपी

शुक्रवार को प्रेस कांफ्रेस के दौरान एसपी दीपक झा ने भी स्वीकार किया कि कोरोना काल के दौरान अस्पताल संचालक व डॉक्टरों के बीच स्र्पयों के लेनदेन को लेकर विवाद हुआ था। आरोप है कि अस्पताल संचालक ने डॉक्टरों को उनका हिस्सा नहीं दिया। रकम की इस हिस्सेदारी व बेमानी कमाई की शिकायत भी डॉक्टरों ने पूर्व में की थी। जिस पर अब तक कोई कार्रवाई नहीं हुई है। एसपी झा ने कहा कि इस घटनाक्रम से जुड़े सभी पहलुओं की जांच की जा रही है। अस्पताल संचालक के खिलाफ साक्ष्य मिलने पर उनके खिलाफ भी वैधानिक कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: anil.kurrey