Bilaspur Crime News: मोबाइल दिलाने का झांसा देकर किशोर का अपहरण, पुलिस ने किया गिरफ्तार

Updated: | Wed, 27 Oct 2021 11:54 AM (IST)

बिलासपुर। Bilaspur Crime News: तखतपुर में मंगलवार की दोपहर कोचिंग गया 15 वर्षीय छात्र गायब हो गया। स्वजन उसकी तलाश कर ही रहे थे कि पिता के पास 10 लाख स्र्पये की फिरौती के लिए फोन आ गया। इसकी सूचना मिलते ही पुलिस सक्रिय हो गई। आठ घंटे की मेहनत के बाद छात्र को अपहरणकर्ताओं के चंगुल से छुड़ा लिया गया। पूछताछ में पता चला कि उसे गांव के तीन युवक मोबाइल दिलाने का झांसा देकर अपने साथ ले गए थे। मामले में पुलिस ने एक नाबालिग समेत सात आरोपितों को गिरफ्तार किया है।

आइजी रतनलाल डांगी ने मंगलवार की देर रात बिलासागुड़ी में मामले की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि जरहागांव क्षेत्र के सेमरसल निवासी शशिकांत पांडेय तखतपुर में रहते हैं। मंगलवार की सुबह 11 बजे उनका 15 वर्षीय बेटा हिमालया पांडेय कोचिंग के लिए गया था। दोपहर 12 बजे तक वह नहीं लौटा। इस पर शशिकांत ने कोचिंग के संचालक को फोन कर जानकारी ली। तब पता चला कि क्लास छूटने के बाद हिमलालयाअपने साथियों के साथ घर की ओर निकल गया था। इस पर शशिकांत अपने बेटे की तलाश कर रहे थे। दोपहर डेढ़ अपहरणकर्ताओं ने शशिकांत को फोन कर पुत्र का अपहरण करने की बात कही। साथ ही फिरौती के रूप में 10 लाख स्र्पये मांगे।

उन्होंने तखतपुर थाना पहुंचकर इसकी जानकारी पुलिस को दी। थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज ने एसपी दीपक झा को घटना की सूचना दी। 15 वर्षीय छात्र के अपहरण की सूचना पर एसपी ने साइबर सेल समेत कई थाना प्रभारियों को तखतपुर भेजा। टीम ने तखतपुर पहुंचकर जांच शुरू कर दी। साइबर सेल को पता चला कि फिरौती के लिए फोन कोटा क्षेत्र से किया गया था। ऐसे में एक टीम को कोटा की ओर भेजा गया। वहीं, एक टीम तखतपुर में सीसीटीवी फुटेज की जांच में जुट गई। एक फुटेज में पता चला कि दो युवक नाबालिग को बाइक में लेकर गए थे। वहीं, फिरौती के लिए आए फोन के दौरान छात्र की मां रजनी पांडेय ने अपहरणकर्ता की आवाज को पहचान लिया था।

उन्होंने बताया कि यह आवाज उनके पैतृक गांव में रहने वाले राममंगल यादव की है। इस पर पुलिस ने सेमरसल में राममंगल को पकड़ लिया। पहले तो वह पुलिस को गुमराह करता रहा। कड़ाई करने पर उसने बताया कि छात्र को उसके साथियों ने सकरी क्षेत्र के सैदा गांव में छिपा रखा है। इस पर एएसपी उमेश कश्यप अपनी टीम के साथ सैदा पहुंच गए। सैदा में खेतों के बीच बने सूने मकान में दबिश देकर पुलिस ने आरोपित सुरेंद्र रजक(23) निवासी कुदुदंड, घनश्याम यादव(19) निवासी वेयरहाउस रोड बिलासपुर, जगदिश पटेल(21) निवासी सेमरसल जरहागांव मुंगेली, कान्हा शर्मा(24) निवासी सरकंडा बिलासपुर, सोमराज पटेल(21) निवासी सेमरसल जरहागांव मुंगेली व एक नाबालिग को पकड़कर हिमालया को मुक्त करा लिया।

पुलिस को चकमा देने करते थे कान्फ्रेंस काल

आरोपित युवक छात्र को सकरी के सैदा गांव में रखे थे। वहीं, पुलिस को गुमराह करने के लिए दो युवकों को कोटा क्षेत्र में भेज दिया था। उनके मोबाइल से कान्फ्रेंस काल कर आरोपित फिरौती की मांग करते थे। साइबर सेल की टीम ने उनकी चालाकी को पकड़ लिया था।

टीम में ये रहे शामिल

छात्र के अपहरण की सूचना पर एसपी दीपक झा ने कोटा एसडीओपी अरोरा आशीष, साइबेर सेल प्रभारी निरीक्षक कलीम खान, तखतपुर थाना प्रभारी मोहन भारद्वाज, एएसआइ मनोज नायक, सागर पाठक, प्रसाद सिन्हा, आरक्षक तस्र्ण केशरवानी, मुकेश वर्मा, तदबीर पोर्ते, सोनू पाल, दीपक यादव, जय साहू, अभिजीत सनत, सुनील सूर्यवंशी, किशन राय, दीपक उपाध्याय, सुनील पटेल शामिल रहे।

बिलासागुड़ी में मां और पिता के छलके आंसू

पुलिस की टीम आरोपित को गिरफ्तार कर बिलासपुर ले आई। वहीं, नाबालिग को भी पूछताछ के लिए बिलासपुर लाया गया। अपने बेटे के सही सलामत मिलने की सूचना पर शशिकांत अपनी पत्नी रजनी के साथ बिलासागुड़ी पहुंच गए। यहां अपने बेटे को सही सलामत देखकर रजनी जहां रोने लगी। वहीं, शश्ािकांत की आंखें से भी आंसू छलक पड़े।

आइजी ने की इनाम की घोषणा

अपहरण के मामले को छह घंटे के भीतर सुलझा लेने पर आइजी रतनलाल डांगी ने पुलिस टीम को इनाम देने की घोषणा की है। उन्होंने बिलासागुड़ी में बताया कि टीम ने 100 से अधिक सीसीटीवी कैमरों के फुटेज की जांच की। साथ ही कई मोबाइल के लोकेशन की जांच कर किशोर को मुक्त करा लिया।

Posted By: Yogeshwar Sharma