Bilaspur Crime News: रेलवे में नौकरी का झांसा देकर धोखाधड़ी करने वाला खलासी पकड़ाया

Updated: | Thu, 23 Sep 2021 08:51 PM (IST)

बिलासपुर। Bilaspur Crime News: पड़ोसी को रेलवे में नौकरी लगाने का झांसा देकर धोखाधड़ी करने वाले खलासी को तोरवा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। पुलिस ने आरोपित को न्यायालय में पेश किया है। सिरगिट्टी थाना क्षेत्र के शकुन बिरहा ने तोरवा थाने में धोखाधड़ी की शिकायत की है। पीड़ित ने बताया कि उनके पड़ोस में रहने वाले चित्रसेन मोगरे ने खुद को रेलवे का अधिकारी बताकर उनके बेटे सुमित की नौकरी लगाने का झांसा दिया।

इसके बाद उसने महिला से अगल-अलग किस्तों में तीन लाख 25 हजार स्र्पये ले लिए। पीड़ित महिला ने बताया कि रेलवे कर्मचारियों से पूछताछ में पता चला कि आरोपित चित्रसेन रेलवे में खलासी है। वह, विभाग में नौकरी नहीं लगवा सकता है। इस पर महिला ने अपने स्र्पये वापस मांगे। स्र्पये वापस करने से बचने के लिए चित्रसेन ने महिला को फर्जी नियुक्ति पत्र थमा दिया। इसे लेकर सुमित रेलवे के कार्यालय में पहुंच गया।

वहां पता चला कि नियुक्ति पत्र फर्जी है। इस पर महिला ने फिर उससे संपर्क किया। इस पर उसने महिला को चेक थमा दिया। आरोपित चित्रसेन के दिए चेक बैंक में बाउंस हो गए। इसके बाद वह महिला को स्र्पये वापस करने के लिए नौ साल तक घूमाता रहा। बाद में महिला ने इसकी शिकायत तोरवा थाने में की। इस पर पुलिस ने जुर्म दर्ज कर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।

बेटी की सहेली से भी की जालसाजी

आरोपित चित्रसेन मोगरे की बेटी 2014 में आइटीआइ कोनी में पढ़ती थी। पढ़ाई के दौरान उसकी दोस्ती मस्तूरी क्षेत्र में रहने वाली अंजू टंडन से हो गई। अपनी बेटी के माध्यम से आरोपित ने छात्रा से जान-पहचान की। इसके बाद उसे रेलवे में नौकरी दिलाने का झांसा देकर स्र्पये ले लिए। नौकरी नहीं लगने पर अंजू ने इसकी शिकायत तोरवा थाने में की। इस पर अगस्त में तोरवा पुलिस ने आरोपित चित्रसेन को धोखाधड़ी के मामले में गिरफ्तार कर लिया। जेल से जमानत पर छूटने के बाद वह इंदौर भागने की फिराक में था। इसी बीच तोरवा पुलिस ने उसे दूसरे मामले में गिरफ्तार कर लिया।

Posted By: Yogeshwar Sharma