Chhattisgarh High Court News: 500 करोड़ के घोटाले में फंसे पूर्व ओएसडी नहीं मिली जमानत

Updated: | Fri, 06 Aug 2021 07:20 AM (IST)

बिलासपुर। Chhattisgarh High Court News: भ्रष्टाचार के जरिए आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के आरोपित आबकारी विभाग के पूर्व ओएसडी (विशेष कर्तव्यनिष्ठ अधिकारी) समुंद्र राम सिंह की जमानत अर्जी को हाई कोर्ट से खारिज हो गई है। बीते 27 जुलाई को कोर्ट ने सुनवाई के बाद फैसला सुरक्षित रखा था। पूर्ववर्ती भाजपा सरकार में समुंद्र राम सिंह को सेवानिवृत्ति के बाद आबकारी विभाग में ओएसडी नियुक्त किया गया था।

इस बीच राज्य में सत्ता बदलने के साथ ही समुंद्र सिंह ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इस दौरान उनके खिलाफ शिकायतें मिली थीं। इस पर ईओडब्ल्यू व एसीबी ने आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने का मामला दर्ज किया और फिर उनके आधा दर्जन से अधिक ठिकानों में छापेमारी की। इस कार्रवाई के दौरान उनके पास से मकान सहित अन्य संपत्ति के दस्तावेज मिले थे।

इसके साथ ही जेवर, बेनामी संपत्ति, पेट्रोल पंप व कैश लेनदेन के साथ ही ठेकेदारों को लाभ पहुंचाने व कर चोरी सहित पांच हजार करोड़ स्र्पये का घोटाला करने का आरोप भी लगा। इस कार्रवाई के बाद आरोपित अफसर फरार हो गए थे। समुंद्र सिंह करीब डेढ़ साल तक फरार रहे। इस बीच एसीबी की टीम ने नवंबर 2020 में दुर्ग जिले में बोरियाकला स्थित उनके निवास में दबिश दी, जहां से उन्हें पकड़ लिया गया।

फिर उन्हें गिरफ्तार कर जेल भेजा गया। करीब आठ माह से जेल में बंद समुंद्र सिंह ने अपने अधिवक्ता के माध्यम से एसीबी की विशेष अदालत में जमानत अर्जी लगाई थी, जिसे खारिज कर दिया गया। इस पर उन्होंने जमानत के लिए हाई कोर्ट की शरण ली। इस प्रकरण में कोर्ट ने सभी पक्षों की सुनवाई की। इस दौरान याचिकाकर्ता के अधिवक्ता ने बहस करते हुए जमानत देने का आग्रह किया। सभी पक्षों की सुनवाई के बाद कोर्ट ने प्रकरण में फैसला सुरक्षित रख लिया था। गुस्र्वार को इस मामले में कोर्ट ने फैसला सुनाते हुए आरोपित अफसर की जमानत अर्जी को खारिज कर दिया है।

Posted By: Yogeshwar Sharma