HamburgerMenuButton

Crime in Train: सारनाथ से नए कपड़े समेत पांच लाख के जेवरात पार

Updated: | Fri, 25 Jun 2021 09:00 AM (IST)

बिलासपुर। Crime in Train: छपरा-दुर्ग सारनाथ एक्सप्रेस स्पेशल से दीपका निवासी दंपती का नए कपड़े व जेवरात से भरा ट्राली बैग चोरी हो गया। बिलासपुर पहुंचने के बाद गुरुवार को जीआरपी थाने में शिकायत की गई। घटना छपरा स्टेशन की होने के कारण यहां शून्य में अपराध दर्ज किया गया। केस डायरी छपरा जीआरपी को भेजी गई। चोरी गए सामान की कीमत पांच लाख रुपये आंकी गई है।

घटना बुधवार सुबह करीब 7.30 बजे की है। कोरबा के दीपका निवासी संतोष कुमार सिंह (40) के छोटे भाई आशुतोष सिंह की छपरा में शादी थी। इसके लिए परिवार समेत सभी वहां गए थे। शादी 20 जून को संपन्न् हुई। इसके बाद नई बहू को लेकर सभी वापसी के लिए छपरा रेलवे स्टेशन पहुंचे। उनका रिजर्वेशन सारनाथ स्पेशल ट्रेन के बी-1 और एस-6 कोच में था। सामान ज्यादा था। इसलिए आधे लगेज को एसी और बाकी को स्लीपर कोच में आरक्षित बर्थ में रखे। ट्रेन वहां से रवाना हुई। इस दौरान उन्होंने लगेज की जांच की तो एक भूरे रंग का ट्राली बैग गायब था।

इसी बैग में नई बहू के नए कपड़े के अलावा 10 तोला सोने के गहने, तीन जोड़ी पायल, दो जोड़ी बिछिया और एक सेट चांदी के बर्तन थे। बैग नहीं मिला तो सभी हड़बड़ा गए। चूंकि ट्रेन रवाना हो चुकी थी। इसलिए चाहकर भी वह उतर नहीं पाए। गुरुवार को परिवार सुबह बिलासपुर पहुंचा। ट्रेन से उतरने के बाद सीधे जीआरपी थाने पहुंचे और घटना की विस्तृत जानकारी दी। प्रार्थी ने जीआरपी को बताया कि संभवत: चोरी छपरा स्टेशन में हुई है। पर इसकी जानकारी ट्रेन में चढ़ने के बाद मिली।

रेलवे में यह सुविधा है कि चोरी या अन्य अपराधिक घटना होने पर किसी भी स्टेशन में अपराध दर्ज करा सकते हैं। लिहाजा बिलासपुर जीआरपी थाने ने शून्य में अपराध पंजीबद्ध कर लिया। इसके साथ केस डायरी छपरा जीआरपी थाने को भेजी गई है। वहां असल अपराध दर्ज कर आरोपितों की तलाश की जाएगी।

तब हुई होगी घटना

प्रार्थी संतोष कुमार सिंह ने जीआरपी थाने में यह जानकारी दी कि उनके साथ मां भी थीं। जब वे छपरा रेलवे स्टेशन पहुंचे तभी मां पीछे रह गईं। उन्हें ढूंढने में ध्यान चला गया। आशंका है कि चोरों ने इसी का फायदा उठाया और घटना को अंजाम देकर रफूचक्कर हो गए। जीआरपी ने इसकी जानकारी भी दर्ज की है। ताकि वहां जीआरपी सीसीटीवी फुटेज की मदद से आरोपितों तक पहुंच सके।

Posted By: sandeep.yadav
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.