Bilaspur High Court News: अंग्रेजी व हिन्दी माध्यम के लिए एक सेटअप होने से 200 विद्यार्थियों का भविष्य हो गया है अंधकारमय

Updated: | Fri, 22 Oct 2021 09:12 AM (IST)

बिलासपुर। Bilaspur High Court News: घरघोड़ा के सामाजिक कार्यकर्ता द्वारा दायर जनहित याचिका पर गुस्र्वार को चीफ जस्टिस एके गोस्वामी व जस्टिस गौतम भादुड़ी के डिवीजन बेंच में सुनवाई हुई। राज्य शासन की ओर से पैरवी करते हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता विवेक रंजन तिवारी ने जवाब पेश करने के लिए समय की मांग की। डिवीजन बेंच ने उनके अनुरोध को स्वीकार करते हुए जवाब पेश करने मोहलत दे दी है। याचिकाकर्ता ने हिन्दी व अंग्रेजी माध्यम स्कूल के लिए समान सेटअप जारी करने से हिन्दी माध्यम से अध्ययरत 200 छात्रों के भविष्य अंधकारमय होने की जानकारी दी है।

घरघोड़ा शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल हिंदी माध्यम के अस्तित्व को बचाने के लिए घरघोड़ा के सामाजिक कार्यकर्ता सोमदेव मिश्रा ने वकील आशुतोष मिश्रा व ईशान शर्मा के जरिए छत्तीसगढ़ हाई कोर्ट में जनहित याचिका दायर की है। याचिका में कहा है कि राज्य शासन द्वारा स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल को प्रोत्साहन देने के लिए पूर्व से संचालित हिन्दी माध्यम स्कूलों की अनदेखी की जा रही है।

याचिका के अनुसार वर्तमान में घरघोड़ा शासकीय उधातर माध्यमिक विद्यालय में यह सभी विषय संचालित होते आ रहे हैं एवं इन विषयों को पढ़ने वाले विद्यार्थियों की संख्या तकरीबन 200 है। जनहित याचिका में कहा है कि हिन्दी व अंग्रेजी माध्यम स्कूल के लिए समान विषय संचालित होने के कारण हिन्दी माध्यम स्कूल के विद्यार्थियों का भविष्य अंधकारमय दिखाई दे रहा है।

चीफ जस्टिस गोस्वामी के डिवीजन बेंच में हुई सुनवाई

जनहित याचिका पर चीफ जस्टिस एके गोस्वामी व जस्टिस गौतम भादुड़ी के डिवीजन बेंच में सुनवाई हुई। प्रकरण की सुनवाई के दौरान राज्य शासन की ओर पैरवी करते हुए अतिरिक्त महाधिवक्ता विवेक रंजन तिवारी ने जवाब पेश करने के लिए समय की मांग की। अतिरिक्त महाधिवक्ता के निवेदन को स्वीकार करते हुए डिवीजन बेंच ने जवाब पेश करने के लिए मोहलत दे दी है।

Posted By: sandeep.yadav