High Court News: पिछड़ा वर्ग आयोग के पूर्व अध्यक्ष को नहीं मिली राहत

Updated: | Wed, 28 Jul 2021 05:31 PM (IST)

बिलासपुर।High Court News: पिछड़ा वर्ग आयोग में अध्यक्ष को लेकर चल रहे विवाद पर पूर्व अध्यक्ष को हाई कोर्ट से राहत नहीं मिल पाई है। मंगलवार को इस प्रकरण की सुनवाई होनी थी, जो अब 12 अगस्त तक टल गई है। इधर, अगस्त माह में ही निर्वतमान अध्यक्ष का कार्यकाल भी पूरा हो जाएगा। ऐसे में याचिका औचित्यहीन हो जाएगी। पिछड़ा वर्ग आयोग अध्यक्ष के मामले में हाई कोर्ट ने पूर्व में वर्तमान अध्यक्ष डा. सियाराम साहू के पक्ष में फैसला दिया है। कोर्ट के फैसले के बाद उन्हें अध्यक्ष की जिम्मेदारी मिली है। राज्य शासन के साथ ही पूर्व अध्यक्ष थानेश्वर साहू ने हाई कोर्ट की एकलपीठ के फैसले को युगलपीठ में चुनौती दी है। बीते 6 जुलाई को कार्यवाहक मुख्य न्यायाधीश प्रशांत मिश्रा की युगलपीठ ने इस मामले में आयोग के अध्यक्ष सियाराम साहू को नोटिस जारी कर दो सप्ताह के भीतर जवाब मांगा था।

इस पर मंगलवार को सुनवाई होनी थी। प्रकरण में जवाब नहीं मिल पाने की वजह से सुनवाई 12 अगस्त तक बढ़ा दी गई है। दरअसल, कार्यकाल पूरा होने के पहले ही कांग्रेस सरकार आने पर राज्य शासन ने आयोग के अध्यक्ष डा. सियाराम साहू को पद से हटा दिया था और थानेश्वर साहू को नया अध्यक्ष नियुक्त कर दिया गया। शासन के इस निर्णय के खिलाफ पद से हटाए गए आयोग के पूर्व अध्यक्ष सियाराम साहू ने हाई कोर्ट में याचिका दायर की थी।

इसमें उन्होंने आयोग के अध्यक्ष की नियुक्ति को निरस्त करने की मांग की थी। उनका कहना था कि पूर्ववर्ती भाजपा शासन के कार्यकाल में उन्हें तीन साल के लिए नियुक्ति दी गई थी। इस बीच राज्य में सत्ता परिवर्तन हुआ और कांग्रेस की सत्ता आने के बाद उन्हें दुर्भावनावश बिना किसी कारण के पद से हटा दिया गया।

उनका कार्यकाल अगस्त 2021 तक है। ऐसे में उन्हें पद से नहीं हटाया जा सकता। इस मामले की सुनवाई करते हुए हाई कोर्ट ने याचिकाकर्ता सियाराम साहू के पक्ष में फैसला दिया है, जिसके खिलाफ हाई कोर्ट में दो अपील लंबित है।

Posted By: anil.kurrey