HamburgerMenuButton

Lay Off Job in Bilaspur Municipal: नौकरी से निकाले छह इंजीनियरों को बकाया वेतन तक नसीब नहीं, निगम से निकले बेरोजगारों की कतार

Updated: | Tue, 22 Jun 2021 07:40 AM (IST)

बिलासपुर। Lay Off Job in Bilaspur Municipal: प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत फील्ड वर्कर के रूप में मास एन ओविड डिजाइन कंसलटेंसी कंपनी के अंतर्गत सर्वेयर का कार्य करने वाले छह इंजीनियरों को बिना सूचना दिए ही नौकरी से निकाल दिया गया। वहीं आठ माह का वेतन भी नहीं दिया गया। उन्होंने वेतन की मांग को लेकर नगर निगम के सभापति को ज्ञापन सौंपकर अपनी समस्या रखी।

नगर निगम प्रबंधन द्वारा प्रधानमंत्री आवास योजना अंतर्गत फील्ड सर्वेयर के रूप में इजींनियर अविनाश श्रीवास, अमन डडसेना, सुमित दास, विवेक यादव, आशीष साहू और प्रतीक साहू को नौकरी पर रखा गया था। सभी इंजीनियरों ने आठ महीने तक बिना वेतन के कार्य किया।

वहीं अब नौकरी से निकालने के बाद वेतन देने में टाममटोल किया जा रहा है। इसी को लेकर सोमवार को सभी इंजीनियरों ने सभापति शेख नजीरुद्दीन से मुलाकात कर अपनी समस्या रखी। इसके बाद सभापति ने जल्द से जल्द वेतन दिलवाने का आश्वासन दिया है। मालूम हो कि नगर निगम में ठेकेदारी पद्धति से हो या संविदा नियुक्ति या मानदेय वाले कर्मचारी हो, ऐसे कई मामले हैं। बड़ी संख्या में लोगों को बेरोजगार कर दिया गया है।

विशेषकर कोरोना काल में उन्हें बाहर का रास्ता दिखा दिया गया है। अब उनके घरों में भूखों मरने की नौबत आ चुकी है। इसके बाद भी निगम अफसरों से लेकर अन्य जिम्मेदारों को उनसे कोई वास्ता नहीं है। बीते सालों में नगर निगम में शामिल हुई पंचायतों में बड़ी संख्या में विभिन्न् पदों पर लोग कार्यरत थे। नगर निगम के अंतर्गत जोन कार्यालयों में उन्हें नियुक्ति दी गई थी।

शुरुआत में उन्हें मानदेय दिया गया। बाद में कोरोना काल के समय काम पर नहीं आने को कहा गया। बाद में पता चला कि उन्हें बाहर ही कर दिया गया है। इसी तरह कई अन्य विभागों की भी हालत है। इसके बाद भी किसी की सुनवाई नहीं होती। कोरोना काल की आर्थिक परेशानियों के बीच उन्हें दोहरी मार पड़ी है।

Posted By: sandeep.yadav
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.