HamburgerMenuButton

Private Hospital: निजी अस्पताल में इलाज के नाम पर मनमानी रकम वसूली रोकने बिलासपुर सीएमएचओ ने जारी किया ये फरमान

Updated: | Sun, 07 Mar 2021 05:38 PM (IST)

बिलासपुर। Private Hospital: जिले के निजी हॉस्पिटल में इलाज के नाम पर मनमानी शुल्क वसूलने को लेकर सीएमएचओ डाक्टर प्रमोद महाजन ने निर्देश जारी किया है। जिसमे निजी अस्पताल में इलाज के दौरान लगने वाले शुल्क को मरीजो के समक्ष प्रदर्शित करने कहा गया है।

एमरजेंसी में इलाज के लिए पहुंचे मरीजो को अस्पताल प्रबन्धन द्बारा इलाज के बेसिक खर्चे बताए जाते है। जब मरीज इलाज के बाद उसका भुगतान करने पहुता है। तो बेसिक फीस के अलावा अतिरिक्त चार्ज जोड़ दिया जाता है। जिससे मजबूरी में उसका भुगतान मरीज के स्वजनों को करना पड़ता है।

इसे देखते हुए सीएमएचओ डा. प्रमोद महाजन ने जिले में संचालित समस्त निजी स्वास्थ्य संस्थाएं अपने संस्थान में मरीजों के ओपीडी परामर्श शुल्क, लैब जांच शुल्क, सोनोग्राफी, एक्स-रे स्केन, फिजियोथेरेपी शुल्क, डेंटल उपचार शुल्क, पंचकर्म क्षार सूत्र शुल्क, बेड चार्ज, नर्सिंग केयर शुल्क, चिकित्सक शुल्क, आपरेशन शुल्क और अन्य आईपीडी उपचार के दौरान लिये जाने वाले समस्त शुल्क का विवरण अनिवार्य रूप से प्रदर्शित करने कहा है, ताकि एमरजेंसी में इलाज कराने आए मरीजों के परिजनों को अस्पताल में इलाज के दौरान आने वाले खर्च का पता आसानी से चल सके।

परामर्श के दौरान पूरी जानकारी देने के निर्देश

शुल्क विवरण के अलावा हॉस्पिटल प्रबंधन मरीजों को उपचार के दौरान होने वाले संभावित व्यय और उपचार की समस्त प्रक्रिया जैसे अनुमानित भर्ती दिवस संभावित आपरेशन, उपचार के दौरान संभावित जटिलताएं आदि का विवरण परामर्श के दौरान आवश्यक रूप से देने कहा गया है। साथ ही आईपीडी वाले संस्थान में 24 घंटे रोटेशन के अनुसार कार्यरत चिकित्सक और नर्सिग स्टाफ के ड्यूटी रोस्टर का प्रदर्शन अनिवार्य रूप से करने निर्दशित किया गया है।

Posted By: sandeep.yadav
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.