Rail News Bilaspur: दुर्घटना से देर भली फिर भी यह कैसी हड़बड़ी

Updated: | Fri, 24 Sep 2021 09:39 AM (IST)

बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)।Rail News Bilaspur: पटरी पार करने से दुर्घटना हो सकता है। ऐसा करना अपराध भी है। ऐसे संदेश रेलवे स्टेशन से अधिकांश ट्रेनों में नजर आएंगे। यात्री इसे पढ़ते भी है। विडंबना की बात है कि जब इसके पालन करने की बारी आती है तो अनदेखी करने में जरा भी नहीं हिचकाते। बिलासपुर, उसलापुर समेत रेल मंडल के अधिकांश स्टेशनों में ब्रिज से लेकर अन्य सुविधाएं होने के बाद भी बड़ी संख्या में यात्री पटरी पार कर ही ट्रेन तक पहुंचते हैं और उतरने के बाद इसी जानलेवा रास्ते का इस्तेमाल करते हैं। इन्हें आरपीएफ न मना करती है और न ही कार्रवाई।

रेलवे में होने वाले हादसो में एक बड़ी वजह यह भी है। यात्री अभी बड़ी पटरी पार करते हैं, जबकि ऐसा करना उनके खुद के लिए जानलेवा साबित हो सकते हैं। ऐसा पहले छोटे स्टेशनों में होता था, जब फुट ओवरब्रिज की सुविधाएं नहीं थी। अब तो अधिकांश स्टेशनों में यह सुविधा मुहैया कराई जा चुकी है। बड़े स्टेशनों में फुट ओवरब्रिज के अलावा लिफ्ट व चलित सीढ़ी जैसी सुविधाएं भी उपलब्ध करा दी गई।

इसके बाद भी यात्री पुराने ढर्रे पर एक से दूसरे प्लेटफार्म पर जाने के लिए पटरी का उपयोग करते हैं। इनमें जोनल स्टेशन भी शामिल हैं। जहां तमाम सुविधाएं हैं। पर यात्री पटरी से प्लेटफार्म पर जाते नजर आते हैं। खासकर यह नजारा गोंदिया-झारसुगुड़ा पैसेंजर के समय पर रोज देखा जा सकता है। यह ट्रेन प्रतिदिन जोनल स्टेशन के प्लेटफार्म दो पर आकर खड़ी होती है। बीच में मालगाड़ी परिचालन के लिए एक लाइन है और उससे पहले प्लेटफार्म एक है।

यात्रा करने वाले यात्री स्टेशन में प्रवेश करते हैं तो ट्रेन सामने नजर आती है। कहीं छूट न जाए, इसी डर से वह प्लेटफार्म एक से ऊपर मालगाड़ी परिचालन वाली लाइन को पार कर बिना प्लेटफार्म वाले हिस्से से ट्रेन में चढ़ जाते हैं। यात्रियों को ऐसा करते आरपीएफ, जीआरपी यहां तक रेलवे स्टेशन में तैनात अन्य कर्मचारी रोज देखते हैं पर किसी को इतनी फुर्सत नहीं कि उन्हें मना करे या समझाइश दे। ऐसे में किसी भी दिन बड़ा हादसा हो सकता है। वैसे भी दोनों प्लेटफार्म के बीच की लाइन से पूरे समय मालगाड़ी दौड़ती है। हड़बड़ी में यात्री दाएं-बांए तक नहीं देखते।

Posted By: anil.kurrey