HamburgerMenuButton

Tendu Lieves Green Diamond of Bilaspur: दो दिन हुई खरीदी फिर मौसम खराब हुआ तो बिलासपुर में बंद हो गई तेंदूपत्ता तोड़ाई

Updated: | Wed, 12 May 2021 05:35 PM (IST)

बिलासपुर। Tendu Lieves Green Diamond of Bilaspur: ग्रामीण अंचल में ग्रीन डायमंड हरा सोना के नाम से प्रसिद्ध तेंदूपत्ता की तोड़ाई का कार्य शुरू हो गया है। बढ़ते संक्रमण के बीच जहां लोग बेरोजगारी की समस्या से जूझ रहे हैं उनके लिए तेंदू पत्ता की तोड़ाई किसी वरदान जैसी साबित हो रही है। वहीं दो दिनों से मौसम खराब होने का असर भी इस पर पड़ा है, जिससे काम फिलहाल बंद हो गया है। उन्हें उम्मीद है कि जल्द ही काम दोबारा शुरू होगा।

सुबह से लेकर पूरे दिन की मेहनत के बाद संग्राहकों को प्रति 100 गड्डी बेचने पर चार 400 रुपये मिल रहा है। कई ऐसे परिवार भी हैं जो प्रतिदिन 500 से अधिक गड्डी तेंदूपत्ता बेचकर इस अवसर का लाभ उठा रहे हैं। तेंदूपत्ता खरीदी किए जाने से ग्रामीणों के चेहरे खिल गए हैं। ग्रामीण संग्रहकों को जहां तेंदूपत्ता बेचने से अच्छी आमदनी भी हो रही है जो वहीं बोनस का भी लाभ मिल जाता है।

तेंदूपत्ता संग्रहण के लिए शासन द्वारा संचालित बीमा योजना का लाभ के लिए संग्रहण परिवार को लगातार तीन वर्ष कम से कम 500 गड्डी तेंदूपत्ता तोड़ना अनिवार्य है। वहीं अब लगातार दो दिन खरीदी किए जाने के बाद मौसम खराब हो गया। ऐसी स्थिति में तेंदूपत्ता खरीदी बंद है मौसम के साफ होते ही पुन: शुरू किया जाएगा।

खैरा समिति को 2000 मानक बोरा का लक्ष्य

तेंदूपत्ता समिति खैरा के अंतर्गत कुल 12 गांव को जोड़ा गया है। प्रत्येक गांव को हर वर्ष तेंदूपत्ता संग्रहण करने का लक्ष्य दिया जाता है। इस वर्ष इन ग्रामों को 2000 मानक बोरा का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। ग्राम पंचायत खैरा को 2.50, शेखर 1.50, उमरिया दादर को 2.00, पचरा को 2.00, चपोरा 1.5, पोंडी 2.00, मोहदा 1.00 , दोना सागर 150, बछाली खुर्द 150, कुआंजती को 80, रानी बछली को 2.00 व बिरगहनी को 1.70 लाख तेंदूपत्ता तोड़ने के लिए लक्ष्य दिया गया है।

Posted By: sandeep.yadav
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.