Bilaspur News: आजादी की लड़ाई के प्रथम नायक थे तिलक जी,स्वराज के लिए सबसे पहले की थी आवाज बुलंद

Updated: | Sun, 01 Aug 2021 04:28 PM (IST)

बिलासपुर। Bilaspur News: जिला शहर कांग्रेस कमेटी के बैनर तले रविवार को लोकमान्य बाल गंगाधर तिलक की 101 वीं पुण्यतिथी का आयोजन कोन्हेर गार्डन में किया गया है। कार्यक्रम में उपस्थित कांग्रेस के नेताओं ने तिलकजी की प्रतिमा पर माल्यार्पण व पुष्प अर्पित कर आजादी की लड़ाई में उनके योगदान का स्मरण किया।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता व कार्यक्रम के संयोजक सैय्यद जफर अली ने कहा कि कांग्रेस के संस्थापक सदस्यों में एक लोकमान्य तिलक का जन्म23 जुलाई 1856 को हुआ। एक अगस्त 1920 को निर्वाण तक के 64 वर्षों के अपने जीवन काल में लोकमान्य तिलक ने राष्ट्र, समाज और मानवता को कई सौगातें दी। प्रथम आधुनिक शिक्षा प्राप्त करने वाले केशव गंगाधर तिलक शिक्षक, अधिवक्ता, लेखक, पत्रकार, समाज सुधारक व आजादी की क्रांति के प्रथम नायक थे।

स्वराज के लिए सर्वप्रथम आवाज तिलकजी ने ही बुलंद की थी। स्वराज मेरा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा का नारा देने वाले बाल गंगाधर तिलक आजादी की लड़ाई के प्रथम नायक थे। मराठा और केशरी जैसे समाचार पत्रों में उनके लेख व कांग्रेस के बैनर तले उनके नेतृत्व में आयोजित आंदोलनों ने अंग्रेजी हुकूमत के पांव उखाड़ने का कार्य किया। लाल,बाल व पाल के तिकड़ी के प्रमुख हिस्सा रहे तिलकजी की विद्वता व दूरदर्शिता अद्वितीय थी।

देश में शिवाजी जयंती और गणेश पूजा की शुरुआत की परंपरा के जनक तिलकजी ही थे।

इन दोनों कार्यक्रमांे में विभिन्न् प्रकार के आयोजन कर देश के युवाओं व आम लोगों को एकजुट कर अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ वातावरण बनाने का कार्य किया। पूर्व विधायक चंद्र प्रकाश वाजपेयी व जिला कांग्रेस प्रवक्ता अनिल सिंह चौहान ने कहा कि लोकमान्य तिलक देश ही नहीं विश्व के महानतम हस्तियों में से एक रहे हैं। महात्मा गांधी ने लोकमान्य तिलक को ज्ञान का सागर बताते हुए खुद को छोटा सा सरोवर बताया था।

उन्हें आधुनिक भारत का निर्माता कहा था। पंडित नेहरू ने तिलकजी को आजादी की क्रांति का जनक कहा था। तिलकजी हिंदी को राष्ट्र भाषा व देवनागरी लिपि को राष्ट्र व्यापी भाषा बनाने में महती भूमिका अदा की। हिंदुस्तान में एक ही लोकमान्य नेता हुए और वह केशव बाल गंगाधर तिलक थे।

इस अवसर पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता विनोद शर्मा, त्रिभुवन कश्यप, किरण देवरस, आशा सिंह, कमलेश लह्वात्रे, कार्यालय प्रभारी सुभाष ठाकुर, रामचंद्र क्षत्रिय, राजेन्द्र सारथी, सुभाष सराफ, भरत जुरियानी, करम गोरख, विष्णु कौशल, उमेश वर्मा, अन्नपूर्णा उइके, राजेन्द्र शर्मा, शिल्पी तिवारी, हेमंत दिघरस्कर, विा गोवर्धन, उत्तरा सक्सेना सहित बड़ी संख्या में कांग्रेस के नेता उपस्थित थे।

Posted By: sandeep.yadav