छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में तीन हाथियों ने हमला कर एक महिला को मार डाला

Updated: | Tue, 30 Nov 2021 10:31 AM (IST)

धमतरी (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पति के साथ विवाद और मारपीट के बाद रात में घर से निकली एक कमार महिला पर तीन दंतैल हाथियों ने हमला कर दिया। हमला से महिला की मौके पर ही मौत हो गई। उनके शरीर तीन टुकड़ों में बट गई है। घटना की जानकारी होने पर रात में ही वन विभाग व पुलिस टीम मौके पर पहुंचकर जांच में जुट गई है। इस घटना से आसपास के गांवों में दहशत का माहौल है।

डीएफओ संतोविशा समाजदार से मिली जानकारी के अनुसार 29 नवंबर की रात मगरलोड ब्लाक के दक्षिण सिंगपुर क्षेत्र स्थित ग्राम भालूचुआ निवासी पतिता कमार 67 वर्ष और उनकी पत्नी कमलाबाई कमार 61 वर्ष के बीच किसी बात को लेकर विवाद हुआ। शराब के नशे में वह पत्नी के साथ मारपीट किया, इससे नाराज कमलाबाई कमार घर से निकलकर जंगल की ओर चली गई। जब महिला वापस घर आ रही थी, तभी तीन दंतैल हाथियों ने उन पर हमला कर दिया। इस हमला से महिला की मौके पर ही मौत हो गई। उनके शरीर के तीन टुकड़े होने की खबर है।

घटना की खबर वन विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों को होने पर मौके पर पहुंचे। रात ढाई बजे डीएफओ संतोविशा समाजदार भी वहां पहुंच गई। उन्होंने बताया कि पिछले कुछ दिनों से अलग-अलग हाथियों के दल घूम रहे हैं। दंतैल हाथी 28 नवंबर को सोनपैरी गांव में धान फसल पर जमकर उत्पात मचाया। इन्हीं हाथियों के दल ग्राम भालूचुआ पहुंचकर महिला पर हमला किया है। हाथियों के हमला से महिला की मौत की खबर सुनने के बाद रात में ही ग्रामीण इकट्ठे हो गए।

डीएफओ संतोविशा समाजदार के पास गांव के उपसरपंच व ग्रामीणों ने कहा कि महिला की मौत पर मिलने वाली मुआवजा उनकी बेटी को मिलना चाहिए, क्योंकि उनका पति शराबी है। उनके साथ मारपीट करता था। मृतका कमला बाई पतिता का दूसरी पत्नी थी। ग्रामीणों की मांग पर डीएफओ संतोविशा समाजदार ने ग्रामीणों को मुआवजा उनकी बेटी को देने आश्वासन दिया है। 30 नवंबर को शव का पोस्टमार्टम मगरलोड के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र स्थित चीरघर में किया जाएगा। पुलिस और वन विभाग की टीम आगे की जांच में जुट गई है।

घटना के बाद से ग्रामीणों में दहशत

बहरहाल वन विभाग की टीम ने भालूचुआ समेत सिंगपुर रेंज के आस-पास के गांवों को तीन दंतैल हाथियों के आने के कारण जंगल की ओर नहीं जाने अपील की है। गांवों में कोटवार के माध्यम से मुनादी करा दिया है। ग्रामीणों के अनुसार एक हाथी अकेला घूम रहा है। वहीं छह हाथियों का अलग दल है और तीन दंतैल हाथियों का अलग दल है।

Posted By: Ravindra Thengdi