HamburgerMenuButton

Chhattisgarh Naxal News : पीएम के 24 घंटे बाद आत्मसमर्पित महिला नक्सली की लाश ले गए स्वजन

Updated: | Fri, 26 Feb 2021 06:24 AM (IST)

दंतेवाड़ा। Chhattisgarh Naxal News : पुलिस ट्रांजिस्ट बैरक में खुदकुशी करने वाली आत्मसमर्पित नक्सली का शव आखिर स्वजन और जनप्रतिनिधि दूसरे दिन गांव ले गए। जिला व पुलिस प्रशासन को पांच बिंदुओं पर मांग पत्र आदिवासी समाज ने सौंपा है, जिसे प्रशासन ने स्वीकार करते मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया है।

कारली पुलिस ट्रांजिस्ट बैरक में मंगलवार की शाम फांसी लगाकर आत्महत्या करने वाली युवती पांडे कवासी पिता सन्न्ू का शव लेने से स्वजन और ग्रामीणों ने बुधवार को इंकार कर दिया था। स्वजनों को आशंका थी कि पुलिस लाइन में उसके साथ कुछ गलत हुआ है। इसी वजह से उन्होंने शव के दोबारा पोस्टमार्टम के साथ स्वजनों को 20 लाख रुपये का मुआवजा, पीएम रिपोर्ट की कापी देने जैसी मांगों को लेकर गुरुवार को कलेक्टर दीपक सोनी को ज्ञापन सौंपा।

कलेक्टर से मांगों को पूरा करने का आश्वासन दिया तो पांडे का शव लेकर उनके स्वजन गुरुवार की शाम गुड़से के लिए रवाना हो गए। उनके साथ समाजसेवी सोन सोरी, गांव से आए जनप्रतिनिधि और कई ग्रामीण भी थे।

कब्र से निकालकर अधजले शव का हुआ पीएम

वहीं दंतेवाड़ा जिले के ही कटेकल्याण ब्लाक के ग्राम माड़गादम निवासी आत्मसमर्पित नक्सली जोगा के बुजुर्ग पिता लखमा के शव को पुलिस ने कब्र से निकालकर पीएम पश्चात गुरुवार को अंतिम संस्कार करवाया। बुधवार को नक्सलियों ने लखमा की कुल्हाड़ी मारकर हत्या पश्चात जला दिया था। जिसे ग्रामीणों ने बूझाकर शव को दूर जंगल में दफना दिया।

इस बीच नक्सलियों ने गांव में यह अफवाह फैला दी थी कि लखमा का शव जला दिया गया है लेकिन पुलिस ने जब गांव पहुंचकर पड़ताल किया तो अधजले लाश को दफनाने की खबर मिली। तब एसडीओपी चंद्रकांत गर्वना की मौजूदगी और अगुवाई में शव बाहर निकाला गया। शव बीती रात बचेली में रखा गया और दोपहर बाद दंतेवाड़ा में पोस्टमार्टम करवाकर गांव भेजा गया। जहां ग्रामीण रीति-रिवाजों के साथ पुत्र जोगा ने अंतिम संस्कार किया।

नक्सलियों ने फेंके पर्चे

बुधवार को नक्सलियों ने माड़गादम में लखमा की हत्या करने के बाद वहां कुछ पर्चे भी फेंक, जिसमें जोगा के परिवार को जनअदालत में मौत की सजा सुनाकर मारने की बात कही है। साथ ही अन्य मिड़कोम, वासु, बामन, गंगा, जोगी, मड्डा, लक्को, दुल्गो, कोसा, जोगाल को भी जनअदालत में मौत की सजा देने की बात कही गई है।

------

Posted By: Ravindra Thengdi
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.