janjgir champa news: अध्यात्मिक नगरी में धूमधाम से मना सीताराम विवाह महोत्सव

Updated: | Thu, 09 Dec 2021 10:42 AM (IST)

जांजगीर-चांपा। शिवरीनारायण में भगवान सीताराम के विवाह में बारातियों ने खूब नृत्य किया। जगह-जगह पर बारातियों का स्वागत नगर वासियों ने बड़े ही आत्मीयता पूर्वक श्रद्धा भक्ति के साथ की। तीर्थ स्थल शिवरीनारायण की पावन धरा में सीताराम विवाह महोत्सव परंपरागत रूप से मनाया गया जिसमें नगर वासियों सहित आसपास के क्षेत्र एवं दूर-दराज से आए हुए श्रद्धालु भक्तजन बड़े ही भक्ति भावना के साथ शामिल हुए।

भगवान श्री रामचंद्र और माता जानकी को दूल्हा- दुल्हन के रूप में सजाकर श्रृंगारित किया गया साथ में लक्ष्मण जी विराजित थे। इन्हें भव्य मंडप में बैठाया गया, विधिवत पूजा अर्चना करने के बाद बाजे- गाजे के साथ मठ से बारात निकली एवं शिवरीनारायण मंदिर के सामने सुसज्जित रथ में उन्हें बैठाया गया जहां शिवरीनारायण मठ के महंत रामसुंदर दास महाराज, जगदीश मंदिर के पुजारी त्यागी महाराज एवं मुख्तियार सुखराम दास सहित श्रद्धालु भक्तों ने उनकी पूजा अर्चना की भगवान का जय- जयकार करते हुए शोभायात्रा नगर भ्रमण के लिए आगे बढ़ी।

जगह जगह हुआ बारातियों का स्वागत

जैसे ही बाजे- गाजे के साथ आतिशबाजी करते हुए बारातियों की शोभा यात्रा नगर भ्रमण के लिए निकला नगर के सभी संभ्रांत नागरिकों ने अपने -अपने दुकान, घर- द्वार के सामने भगवान का बारात आते हुए देखकर बारातियों की खूब खातेदारी की, उन्हें मेवा, मिष्ठान खिलाकर तिलक लगाकर सम्मान सहित उनका स्वागत वंदन किया गया

बारात में साधु संत और नगरवासी हुए शामिल

भगवान रघुनाथ की बारात में छोटे-छोटे बच्चों से लेकर वयोवृद्ध लोग तक शामिल हुए केवल यही नहीं इसमें छत्तीसगढ़ राज्य के अनेक स्थानों से आए हुए संत महात्माओं के अतिरिक्त अनेक नगर एवं महानगरों से पधारे हुए श्रद्धालु भक्तजन भी बड़े ही भक्ति भावना के साथ बाराती बनकर अपना सौभाग्य संवारते रहे। मानस मंडली, कीर्तन मंडली के लोग भी इसमें बड;े ही भक्ति भावना के साथ शामिल हुए।

विवाह पूर्ण होने के पश्चात टीकावन की रस्म पूरी की गई

भगवान की बारात नगर भ्रमण करने के पश्चात जैसे ही शिवरीनारायण मठ वापस पहुंचे दरवाजे पर मोहल्ले की सभी माताओं ने परछन करके आरती उतारकर दूल्हा- दुल्हन को मंडप में बिठाया और भगवान के लिए माताओं ने विवाह गीत गाकर विवाह कार्य पूरा किया, पूजा -अर्चना के पश्चात परिणय सूत्र में बंधे हुए नव दंपति को लोगों ने अपनी श्रद्धा भक्ति के अनुसार टिकावन देकर उनके मंगलमय जीवन के लिए आराधना किया।

-

Posted By: Yogeshwar Sharma