Raigarh News: जवाद से बदला मौसम का मिजाज,रायगढ में रिमझिम बारिश

Updated: | Sun, 05 Dec 2021 07:34 PM (IST)

रायगढ़ Raigarh News:। चक्रवात जवाद का असर रायगढ जिले में रिमझिम फुहार के रूप में देखने को मिल रहा है। इसका असर अब जिले में भी नजर आ रहा है। आलम यह है कि जिले भर में मौसम का मिजाज बदल गया है आसमान में घने बादलों का डेरा है शहर से लेकर ग्रामीण अंचल तक रिमझिम बारिश सुबह से हो रही है। चक्रवात के असर से किसान , मंडी समिति से लेकर आम लोगो के जनजीवन में खासा प्रभाव डाल रहा है। इससे जनजीवन अस्त व्यस्त हो रहा है लोगो मे जहां मौसमी बीमारी का डर है तो किसान व मंडी समिति के प्रबंधन को धान के भींगने की चिंता सता रही है।

शहर व जिले के सभी तहसील में जवाद का असर नजर आया है। खरीफ सीजन की लहलहाती धान कटाई के बाद लवाई के लिए खेत खलिहान कोठार पर खुले में पड़ा है जो बारिश की वजह से भींग गया तो कई लोग सुरक्षित रखने में कामयाब हुए लेकिन धान में हवाओ के चलते ज्यादा आने की बात सामने आ रही है। इससे सैकड़ो गांव के अन्न दाता किसानों जिन्होंने धान की खेती किए है उनके माथे में उपज के दाम में नुकसान की होने की चिंता सताने लगी है। भारत की खाड़ी में उपजे जवाद के कारण जिला भी पूरी तरह से प्रभावित रहा जिसमें शनिवार रात से रविवार सुबह तक रिमझिम बारिश भी होने लगी।

काले बादलों का रहा आसमान में डेरा

जिले में रविवार को मौसम में बदलाव आया है। दिन भर काले बादलों का डेरा आसमान में छाए रहा। ठंडक का एहसास पूरी तरह से नदारद रहा। बादल छंटते ही ठंड बढ़ेगी और यह शारीरिक तौर पर नुकसानदेह साबित होगा खासकर बच्चों को इसलिए डाक्टर भी सावधानी बरतने की सलाह दे रहे है।

उद्यानिकी फसल वाले किसान चिंतित

जिले के लैलूंगा ब्लाक में टमाटर की बंपर उत्पादन होती है इस वर्ष भी टमाटर की बंपर पैदावार हुई है जिससे यहां के टमाटर दूसरे जिलों में बिक्री के लिए भेजा जा रहा। लेकिन इस बारिश ने टमाटर की पैदावार पर सबसे अधिक असर पड़ेगा जिसका खामियाजा किसानों को आर्थिक नुकसान के रूप में झेलना पड़ेगा। इसका असर स्थानीय बाजार में भी देखने को मिलेगा जिसमें टमाटर की आवक कम होगी और कीमत में तेजी आएगी तो लोगों की जेब को ढीली करनी पड़ेगी।

Posted By: Yogeshwar Sharma