HamburgerMenuButton

Raipur News : एक ऐसा मंदिर जहां मनौती पूरी होने पर भक्त चढ़ाते हैं मिट्टी का घोड़ा

Updated: | Sun, 29 Nov 2020 09:21 AM (IST)

संजय श्रीवास्तव, रायपुर। Raipur News : लोग मनौती पूरी होने पर मंदिर में पूजा, नारियल या भगवान को अर्पित करते हैं। बालोद से 30 किमी दूर घीना डैम के पास बने हरदेव लाल मंदिर में नवरात्रि के बाद वाले मंगलवार को आठ गांव के ग्रामीण देव दशहरा मनाते हैं। इस बार कोरोना काल के चलते मंदिर परिसर में मेला का आयोजन नहीं हुआ। लोग मिट्टी के घोड़े इस मंदिर में चढ़ाने के लिए दूर दराज से पहुंचे थे। देर शाम तक आयोजन चलता रहा।

ज्ञात हो कि बालोद जिले में यह मंदिर मिट्टी के घोड़ों के नाम से अपनी अलग पहचान बना चुका है। इसके चलते यहां लोग अपनी मनोकामना लेकर पहुंचते हैं और यहां मिट्टी के घोड़े चढ़ाते हैं। यहां जिले की अनोखी दशहरा मनाई जाती है। ग्राम पांड़े डेंगरापार के पांड़े जाति के ग्रामीणों के लिए बाबा हरदेव लाल ही ईष्ट देव है। यहां तीन सौ साल से रावण का पुतला नहीं जलाया जाता।

अलग से विजया दशमी नहीं मनाते थे। जैसा अन्य गांव में मनाया जाता है। यहां के लिए हरदेव लाल का देव दशहरा ही प्रमुख त्योहार है। जहां ग्रामीण मनोकामना पूरी होंने पर मिट्टी के घोड़ा चढ़ाते हैं। मंदिर की मान्यता के कारण बालोद सहित अन्य जिले से भी लोग घोड़ा चढ़ाने के लिए यहां आते हैं।

नईदुनिया ने देव दशहरा व हरदेलाल से जुड़ी खास तथ्यों का पता लगाया। ग्रामीणों ने एतिहासिक बातों का उल्लेख करते हुए अपनी भक्ति भावना प्रकट की। डेंगरापार के गौतम साहू, कसही कला के कोमल साहू ने कहा कि लगातार मंदिर में भीड़ जुट रही है। इसे पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की भी मांग की जा रही है।

कौन थे हरदेवलाल आज तक पता नहीं

हरदेव लाल असल में कौन थे। आज तक कोई पुख्ता प्रमाण नहीं मिला। मंदिर के बैगा धनसिंह नेताम, रिखीराम नेताम ने बताया कि बुजुर्गों से सुनी कहानी के अनुसार तीन सौ साल पहले एक व्यक्ति घोड़े में सवार होकर आया था। जिसे ग्रामीण चमत्कारी मानते थे। उसका नाम हरदेव लाल था। विक्षिप्त व अन्य परेशानी से पीड़ित लोगों की वे इलाज करते थे। अचानक वे गायब हुए। उनके जाने के बाद उनकी याद में ग्रामीणों ने मंदिर बनाया। पहले झोपड़ीनुमा मंदिर था। अहिबरन नवागांव के रूपचंद जैन ने दान राशि देकर मंदिर बनवाया।

हर साल चढ़ाई जाती हैं दो से तीन सौ मिट्टी के घोड़े

ग्रामीण हर साल दो सौ से तीन सौ घोड़े मंदिर में चढ़ाते हैं। हरदेव लाल की सवारी घोड़ा थी। इस कारण ग्रामीण घोड़ा चढ़ाते हैं। अंग्रेज शासन काल में 1876 में घीना डैम का निर्माण हुआ। उसके पहले से मंदिर का अस्तित्व है। मंदिर समिति के उपाध्यक्ष व घीना निवासी उपसरपंच व समाजसेवी डाल चंद जैन ने बताया कि लोगों की आस्था के कारण आज दूर दूर से ग्रामीण घोड़ा चढ़ाने के लिए आते हैं।

इन गांवों के लिए प्रमुख पर्व

नवरात्रि के बाद आने वाले पहले मंगलवार को मंदिर परिसर में देव दशहरा मेला लगता है। करीब तीन सौ साल से आयोजन हो रहा है। जहां डेंगरापार, हड़गहन, घीना, अहिबरन नवागांव, कसहीकला, लासाटोला, गड़इनडीह परसवाणी के आठ हजार से अधिक ग्रामीण हर साल दशहरा में एकत्रित होते हैं। इस बार कोरोना के चलते भीड़ कम रही। जिन लोगों की मन्नत पूरी हुई है। वे उपहार स्वरूप हरदेव लाल को घोड़ा प्रतिमा चढ़ाते हैं। आठ गांव के लिए ये देव दशहरा प्रमुख पर्व है।

इस तरह होता है आयोजन

सभी गांव से घोड़ा चढ़ाने वाले ग्रामीण कतार में मंदिर पहुंचते है। डांग डोरी भी लाया जाता है। सेवा गीत चलती है। मंदिर परिसर में मेला लगता है। भीड़ इतनी होती है कि रात 10 बजे तक घोड़ा चढ़ाने का सिलसिला चलता है। दूर-दूर से आने वाले ग्रामीण एक दिन पहले डेंगरापार के बैगा के घर या अपने परिचित के पास मिट्टी का घोड़ा पहुंचाते हैं। जिसे मेला के दिन वे खुद या दूसरे के माध्यम से जंवारा की तरह सिर पर रखकर मंदिर में चढ़ाने के लिए आते हैं।

Posted By: Shashank.bajpai
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.