AIIMS Raipur News: एम्स में पैलिएटिव केयर की सुविधा शुरू, कैंसर और एचआइवी के रोगियों को मिलेगा लाभ

Updated: | Sat, 25 Sep 2021 05:25 PM (IST)

AIIMS Raipur News: रायपुर। छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के एम्‍स में पैलिएटिव केयर की सुविधा शुरू हो गई है। यहां पर कैंसर, डायबिटीज, एचआइवी, सिकलसेल, एनिमिया और किडनी की गंभीर बीमारियों का उपचार करा रहे रोगियों को पैलिएटिव केयर (प्रशामक देखभाल) प्रदान करने के उद्देश्य से अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, रायपुर में आंकोलाजी विभाग के अंतर्गत नया केंद्र शुरू किया गया है। इसके माध्यम से इन गंभीर बीमारियों के रोगियों को चिकित्सा के साथ-साथ मनोवैज्ञानिक, सामाजिक, भावनात्मक और अध्यात्मिक संबल प्रदान किया जाएगा जिससे रोगियों का मनोबल बढ़ सके।

निदेशक प्रो. (डाक्‍टर) नितिन एम. नागरकर ने बताया कि दिल्ली एम्स की तर्ज पर अब एम्स रायपुर में भी पैलिएटिव केयर की सुविधा प्रारंभ कर दी गई है। आंकोलाजी विभागाध्यक्ष डाक्‍टर यशवंत कश्यप के निर्देशन में एसआर डाक्‍टर अविनाश तिवारी रोगियों को पैलिएटिव केयर प्रदान कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि चिकित्सा विज्ञान में पैलिएटिव केयर एक नई अवधारणा है जिसमें कैंसर, एचआईवी जैसी गंभीर बीमारियों के रोगियों को साक्ष्य आधारित चिकित्सा से मानसिक और शारीरिक शक्ति प्रदान करने की कोशिश की जाती है, जिससे रोगी इन बीमारियों के उपचार के साथ ही गुणवत्ता युक्त जीवन यापन कर सके।इसकी मदद से अवसादग्रस्त रोगियों की पीड़ा को कम करना और जीवन के प्रति सकरात्मक भाव उत्पन्न किया जाता है। इसमें दवाइयां देने के साथ काउंसलिंग भी की जाती है।

डाक्‍टर कश्यप ने बताया कि गंभीर बीमारियों से ग्रस्त रोगी शीघ्र ही डिप्रेशन का शिकार हो जाते हैं जिसका असर सामान्य दिनचर्या और भोजन पर पड़ता है। समाज में भी इन रोगियों को सम्मान नहीं मिल पाता जिससे रोगियों के मानसिक स्वास्थ्य पर दुष्प्रभाव पड़ता है। पैलिएटिव केयर के माध्यम से इन रोगियों के आत्मविश्वास को बढ़ाने का प्रयास किया जाएगा।

डाक्‍टर तिवारी ने बताया कि अगस्त में इस सेवा के प्रारंभ होने के बाद अब तक 200 से अधिक रोगी इस सुविधा का लाभ उठा चुके हैं। अब छत्तीसगढ़ के साथ-साथ ओडिशा और मध्यप्रदेश के रोगी भी इस सुविधा का लाभ उठा रहे हैं। डाक्‍टर तिवारी पूर्व में टाटा मेमोरियल हॉस्पिटल, मुंबई में कार्यरत थे।

Posted By: Kadir Khan