Best Performing Krishi Vigyan Kendra: युवा किसानों के लिए छत्तीसगढ़ में केवीके बन रहा लघु उद्योग केंद्र

Updated: | Mon, 02 Aug 2021 04:10 PM (IST)

रायपुर नईदुनिया प्रतिनिधि। Best Performing Krishi Vigyan Kendra : छत्तीसगढ़ के रायपुर, धमतरी और महासमुंद जिलों में संचालित कृषि विज्ञान केंद्र को भारत सरकार ने मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ में संचालित बेस्ट परफारर्मिंग कृषि विज्ञान केंद्र के रूप में सम्मानित किया गया है। ज्ञात हो कि कृषि विज्ञान केंद्र द्वारा कृषक समूहों और महिला स्व-सहायता समूहों को विभन्न कृषि उत्पादों के प्रसंस्करण व मूल्य संवर्धन का प्रशिक्षण प्रदान कर नये खाद्य उत्पादों के व्यवसाय को बढ़ावा दिया गया है। इसी तरह से यहां पर मशरूम पावडर,अचार,चटनी,रेड राईस पोहा,मुनगा पावडर,वर्मीकम्पोस्ट आदि शामिल हैं। केन्द्रीय कृषि मंत्री, नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि जिले में संचालित केवीके अब किसानों के लिए लघु उद्योग का केंद्र बन रहा है। जहां युवा किसान नवाचार कृषि कार्य के बारे में अवगत हो रहे है। रायपुर कृषि विज्ञान केंद्र में मछली पालन की नवीन तकनीक बायोफ्लाक प्रविधि से मछली पालन के लिए 60 नई इकाईयां शुरू की गई है।

दूसरे केवीके के लिए बन रहे प्रेरणा स्रोत

भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद, अटारी जोन-9 के अंतर्गत संचालित छत्तीसगढ़ और मध्यप्रदेश के कृषि विज्ञान केंंद्रों की 28वीं आंचलिक कार्यशाला का शुभारंभ करते हुए केन्द्रीय कृषि मंत्री, नरेन्द्र सिंह तोमर ने विगत दिवस इन कृषि विज्ञान केंद्रों को सम्मानित किया।कृषि मंत्री श्री तोमर ने इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित छत्तीसगढ़ के कृषि विज्ञान केन्द्रों के काम-काज की सराहना करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ के कृषि विज्ञान केंद्र देश के अन्य कृषि विज्ञान केंद्रों के लिए प्रेरणास्रोत बन गए हैं।

नवीन कृषि प्रौद्योगिकी का हो रहा विस्तार

इस मौके पर नई दिल्ली स्थित भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद उपमहानिदेशक (कृषि विस्तार) डॉक्टर ए.के. सिंह, उपमहानिदेशक ( प्राकृतिक संसाधन प्रबंधन ) डाक्टर एसके चौधरी, इंदिरा गांधी कृषि विश्वविद्यालय, रायपुर के कुलपति डा एसके पाटील, कृषि विश्वविद्यालय, ग्वालियर, के कुलपति,डा एसके राव, जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय, जबलपुर, के कुलपति, डा पीके बिसेन, अटारी, जोन-9, जबलपुर के निदेशक, डा एसआर के सिंह उपस्थित थे। मालूम हो कि कृषि विश्वविद्यालय के तहत संचालित 27 कृषि विज्ञान केंद्रों के जरिए किसानों के लिए अनेक योजनाएं और गतिविधियां चलाई जा रही हैं और नवीन कृषि प्रौद्योगिकी का विस्तार जारी है।

Posted By: Kadir Khan