बच्चों से भीख मंगवाकर उनका मौलिक अधिकार और बचपन छीनने का चल रहा दुष्चक्र-भाजपा

Updated: | Sat, 23 Oct 2021 06:03 AM (IST)

रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भाजपा रायपुर शहर जिला अध्यक्ष और पूर्व विधायक श्रीचंद सुंदरानी ने पढ़ने-लिखने की उम्र में बच्चों से कराई जा रही भिक्षावृत्ति को लेकर प्रदेश सरकार पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने जिन बच्चों को पढ़ा-लिखाकर क़ाबिल बनाने के लिए शिक्षा का अधिकार अधिनियम लागू किया है, प्रदेश की कांग्रेस सरकार अब उसके प्रति भी लापरवाही का परिचय दे रही है। प्रदेशभर में बच्चों से भीख मंगवाकर उनसे न केवल उनका मौलिक अधिकार, अपितु उनका बचपन भी छीनने का दुष्चक्र चल रहा है और शासन-प्रशासन आंखें मूंदे बैठे हैं।

सुंदरानी ने कहा कि छत्तीसगढ़ की प्रदेश सरकार की लापरवाही के चलते लैंड, सैंड और लिकर माफियाओं की सूची में अब बेगर (भिक्षावृत्ति कराने वाले) माफिया भी शुमार हो चले हैं, जो छत्तीसगढ़ के छोटे-छोटे गांवों से बच्चों को विभिन्न वाहनों में भरकर नजदीकी बड़े शहरों में लाकर उनसे भिक्षावृत्ति करा रहे हैं।

इसके एवज में बच्चों से पैसों की जबरिया उगाही की जा रही है। कांग्रेस सरकार और उसकी प्रशासनिक मशानरी कोई संज्ञान नहीं ले रही है। ताजा घटनाक्रम का जिक्र करते हुए सुंदरानी ने कहा कि खरोरा से बच्चों को रायपुर लाकर भीख मंगवाई जा रही है और प्रदेश सरकार अपनी नाक के नीचे चल रहे इस अमानवीय कृत्य की ओर से आंखें मूंदे बैठी है। यह अमानवीय और आपराधिक कृत्य सिर्फ रायपुर ही नहीं, बल्कि पूरे प्रदेश में बेखटके अंजाम दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री की आईजी, एसपी की बैठक में इस विषय पर चर्चा तक नहीं हुई।

इससे साफ पता चलता है कि मुख्यमंत्री इसे अपराध ही नहीं मानते और इस तरफ शासन का रवैया अनदेखी वाला है। सुंदरानी ने मांग की है कि शासन-प्रशासन को इस पर तत्काल कार्रवाई करनी चाहिए और ऐसे माफियाओं को सींखचों के पीछे डालना चाहिए।

Posted By: Shashank.bajpai