Chhattisagrh Pollution News: छत्तीसगढ़ के बिरगांव और सिलतरा में प्रदूषण पर अधिकारियोें ने साधी चुप्पी

Updated: | Tue, 28 Sep 2021 11:13 AM (IST)

Chhattisagrh Pollution News: रायपुर (नईदुनिया प्रतिनिधि)। रायपुर स्थित सिलतरा और बिरगांव में प्रदूषण फैल रहा है। प्रदूषण फैलाने वाली कंपनियों के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए प्रदूषण, उद्योग और श्रम विभाग में शिकायत की गई थी। अधिकारियों ने शिकायत के बाद भी जांच नहीं की। वहीं मोहरेंगा से हिरमी जाने वाली सड़क पूरी तरह से खराब हो चुकी है। इसकी मरम्मत अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी द्वारा की जानी है। लेकिन कंपनी कई सालों से मरम्मत कार्य नहीं कर रही है।

कंपनी को नोटिस देकर सड़क पर डामरीकरण करने को कहा गया है। सोमवार को जिला पंचायत की सामान्य सभा की बैठक में इसे लेकर जमकर मामला गर्माया। जिला पंचायत सीईओ मयंक चतुर्वेदी ने एक सप्ताह के भीतर जांच रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिए है। वहीं दूसरी तरफ सिंचाई विभाग और पर्यावरण विभाग के अधिकारी बैठक में बगैर सूचना के नदारद थे। दोनों अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई करने की अनुशंसा की गई है।

ज्ञात हो कि कलेक्टोरेट स्थित रेडक्रास भवन में सोमवार की दोपहर करीब एक बजे सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में सबसे पहले जिला पंचायत अध्यक्ष डोमेश्वरी वर्मा ने रायपुर से सटे बिरगांव और सिलतरा इलाके में उद्योगों से फैल रहे प्रदूषण का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि उद्योगों की जांच नहीं होती। लिखित में शिकायत देने के बाद भी अधिकारियों ने किसी प्रकार की जांच नहीं की है। उन्होंने प्रदूषण की जांच के लिए तत्काल प्रभाव से टीम गठित कर एक सप्ताह के अंदर जांच कर रिपोर्ट देने की बात कही।

उद्यानिकी विभाग में गड़बड़ी

धरसींवा विधायक अनिता शर्मा ने बैठक में मुद्दा उठाया कि उद्यानिकी विभाग द्वारा नेट शेड लगाया जा रहा है। शासन की इस योजना का लाभ किसानों को नहीं मिल पा रहा है। उन्होंने अधिकारियों के ऊपर अनियमितता बरतने का आरोप लगाया। वहीं जिला पंचायत सभापति राजू शर्मा ने सड़क का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि मोहरेंगा, भरवाडीह, कचिया, मोहरामार्ग से हिरमी पहुंच तक लाखों लोग सफर करते हैं। यह सड़क पूरी तरह से जर्जर हो चुकी है। सड़क के मरम्मत का काम अल्ट्राटेक सीमेंट को करना है, लेकिन कंपनी द्वारा मरम्मत का काम नहीं कराया जा रहा है। इस पर जिला पंजायत सीईओ ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि कंपनी को नोटिस जारी कर तत्काल सड़क दुरूस्त करवाने का निर्देश दिया है।

75 फीसद फसल बर्बाद

खरोरा तहसील के अंतर्गत धान के फसल में पेनिकल माइट (मकड़ी) कीट नामक रोग लग रहा है। जिससे चलते 75 फीसद फसल बर्बाद हो चुकी है। किसानों ने दवा की छिड़काव किया लेकिन फसल पर इसका प्रभाव नहीं पड़ रहा। जिला पंचायत सभापति ने आरोप लगाया है कि बाजार में मिलने वाली दवाएं डुप्लीकेट है। जिस कारण दवाएं असर नहीं कर रही है।

महीनों से नहीं मिल रहा वेतन

रायपुर जिले के अंतर्गत आने वाले प्राथमिक स्कूलों में सफाई कर्मचारियों को पिछले छह माह से वेतन नहीं मिल रहा है। वेतन नहीं मिलने से कर्मचारियों के घर चलाना मुश्किल हो गया है। वहीं दूसरी तरफ ग्राम कोंहडा, चंगोरी, मेश्रामपुर, नकटी, तुलसी मानपुर में स्कूल जर्जर हो चुके है। कई स्कूल की छत गिर रही है। इसके साथ घरसींवा जिला पंचायत सदस्य ने नदीं के किनारे पौधारोपण करने की मांग की है।

Posted By: Kadir Khan