HamburgerMenuButton

Corona Effect: छत्‍तीसगढ़ के होटल कारोबार को पांच हजार करोड़ का झटका

Updated: | Wed, 12 May 2021 01:29 PM (IST)

रायपुर। Corona Effect: कोरोना संक्रमण के चलते लगाए गए लाकडाउन का असर वैसे तो पूरे व्यापार-उद्योग जगत पर पड़ा है। लेकिन इसका सर्वाधिक असर होटल कारोबार पर पड़ता दिख रहा है। कारोबारियों की मानें तो इस साल मार्च से लेकर अभीतक की स्थिति में प्रदेश के होटलों को करीब पांच हजार करोड़ का झटका लग चुका है।

होटल कारोबारियों का कहना है कि ऐसी स्थिति में स्टाफ का वेतन, मेंटनेंस, बिजली बिल भरना भी मुश्किल हो गया है। सबसे ज्यादा झटका तो किराए पर चलने वाले छोटे रेस्टाेरेंट को हुआ है। लाकडाउन खुलने के बाद भी इनके खुल पाने में संशय बना हुआ है। कारोबारियों का कहना है कि 35 फीसद से अधिक छोटे रेस्टाेरेंट पर ताला लग सकता है।

होटल कारोबारियों का कहना है कि होटलों को विशेष रियायत मिलनी चाहिए। इनके बाद ही इनकी स्थिति में सुधार होगा। होटल कारोबारियों का कहना है कि आने वाले छह माह में ही होटल के क्षेत्र में कोई सुधार की संभावना नहीं है। इसका सबसे प्रमुख कारण तो यही है कि इसके बाद बारिश शुरू हो रहा है और बारिश में कारोबार वैसे ही ठंडा रहता है। इसलिए होटल कारोबारी सरकार से रियायत चाहते है।

शादियों की बुकिंग हुई रद

शादी सीजन में होटलों में होने वाली शादियों की सारी बुकिंग रद हो गई है। कोरोना के कारण शादी में नियम है कि 10 से अधिक मेहमान नहीं रह सकते। ऐसे में होटलों में होने वाली शादियां रद हो गई है। इसकी वजह से भी होटलों को तगड़ा झटका लगा है।

सरकारी व निजी कार्यक्रम हुए बंद

कोरोना की वजह से होटलों में आयोजित होने वाले सरकारी व निजी कार्यक्रम पूरी तरह से बंद हो गए है। बताया जा रहा है कि इसके साथ ही बाहर से आने वाले मेहमानों व कारपोरेट अधिकारियों के लिए होटलों के कमरे भी बुक रहते थे। इस पर भी लगाम लग गया है।

बीते साल से ज्यादा का झटका

बीते साल भी कोरोना की वजह से कारोबार प्रभावित हुआ था,लेकिन इस साल तो और ज्यादा प्रभावित हो गया है। होटलों को बचाने के लिए विशेष रियायत दी जानी चाहिए।

-कमलजीत सिंह होरा, संरक्षक,छत्तीसगढ़ होटल एंड रेस्टाेरेंट एसोसिएशन

किराए के भवनों में चल रहे रेस्‍टोरेंट

राजधानी में 500 से अधिक छोटे-बड़े होटल,रेस्टाेरेंट है

इनमें से करीब 40 फीसद से अधिक छोटे रेस्टाेरेंट किराए के भवनों में चल रहे

ये है मांग

बिजली का जितना उपयोग हो,उतना ही आए बिजली बिल

प्रापर्टी टैक्स में मिले राहत

Posted By: Azmat Ali
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.