HamburgerMenuButton

Corona Virus In Chhattisgarh: कोरोना वायरस का सक्रमण रोकने हर उपाय का सख्ती से करें पालन-भूपेश बघेल

Updated: | Mon, 19 Apr 2021 02:26 PM (IST)

रायपुर, राज्य ब्यूरो। Corona Virus In Chhattisgarh: छत्तीसगढ़ में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए हर उपाय पर और सख्ती की जाएगी। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने बाहर से आने वाले हर एक व्यक्ति की एयरपोर्ट, रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड के साथ अंतरराज्यीय सीमाओं पर कड़ाई से टेस्टिंग करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने रविवार को राज्य के 10 सर्वाधिक कोरोना संक्रमित जिलों के अफसरों के साथ वहां के हालात की समीक्षा की।

वीडियो कांफ्रेसिंग के माध्यम से हुई इस बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने बाहर से आने वालों को आवश्यकतानुसार क्वारंटाइन सेंटर, आइसोलेशन में रखने और अस्पताल भेजने की व्यवस्था के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए चिकित्सा स्टाफ सहित शासन-प्रशासन के अधिकारी-कर्मचारी, विभिन्न संगठनों के प्रतिनिधि बड़ी मेहनत के साथ काम कर रहे हैं।

ऐसे में यह जरूरी है कि बाहर से आने वाले प्रवासी लोगों की चेक प्‍वाइंट पर टेस्टिंग कर संक्रमित लोगों को चिन्हाकित कर उनके इलाज की समुचित व्यवस्था की जाए, ताकि इन लोगों से संक्रमण न फैलने पाए। सीएम ने अंतरराज्यीय सीमाओं को हर हाल में सील रखने के निर्देश दिए हैं। लाकडाउन का सख्ती से पालन और चौक- चौराहों पर भीड़ एकत्र न होने देने के भी निर्देश दिए हैं।

ज्यादा संक्रमण वाले गांवों में हर व्यक्ति की होगी जांच

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन ग्रामीण क्षेत्रों में ज्यादा संक्रमण के मामले आ रहे हैं, वहां गांवों में हर व्यक्ति की जांच के लिए विशेष अभियान चलाकर टेस्टिंग करने, उन्हे अलग रखने और उनकी मानिटिरिंग की व्यवस्था करने के निर्देश दिए। क्वारंटाइन और होम आइसोलेशन वालों को टेलीमेडिसिन के माध्यम से सलाह देने की व्यवस्था की जाए। इसके लिए कंट्रोल रूम को सक्रिय किया जाए।

नकारात्मक माहौल न बनने देने की सलाह

सीएम ने दुष्प्रचार करने वालों के खिलाफ भी सख्त कार्रवाई करने के लिए कहा। यह सुनिश्चित किया जाए कि हेल्थ वर्कर और फ्रंटलाइन वर्कर संक्रमण से बचने के लिए कोविड-19 की गाइडलाइन का कड़ाई से पालन करें। साथ ही हेल्थ वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और सामाजिक संगठनों द्वारा किए जा रहे सराहनीय कार्यों का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। जिससे नकारात्मकता का माहौल न बनने पाए, इसका विशेष ध्यान रखें। उन्होंने कहा कि यह भी ध्यान रखा जाए कि आम जनता की आवश्यक जरूरतों की पूर्ति में कोई व्यवधान न आने पाए।

दवा- टेस्टिंग किट व अन्य आवश्यकताओं की उपलब्धता

वरिष्ठ अधिकारियों को मुख्यमंत्री ने टेस्टिंग किट सहित जरूरी मेडिकल उपकरणों, आक्सीजन सिलेंडर, रेमडेसिविर सहित आवश्यक दवाओं की उपलब्धता को निरंतर बनाए रखने के निर्देश दिए। आवश्यक दवाईयों की कालाबाजारी पर सख्ती से रोक लगाई जाए। सभी जिलों में जरूरत के अनुसार मेडिकल स्टाफ की भर्ती तत्काल की जाए।

कलेक्टरों को पूरी व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश

मुख्यमंत्री ने वर्चुअल बैठक में 10 जिलों रायपुर, दुर्ग, बेमेतरा, राजनांदगांव, बिलासपुर, जांजगीर-चांपा, रायगढ़, बलौदाबाजार, जशपुर और कोरबा जिले के कलेक्टरों को अपने-अपने जिलों में आक्सीजन सिलेेंडर की निरंतर आपूर्ति तथा आवश्यक दवाईयों के भंडारण, खदान और औद्योगिक क्षेत्रों में सघन टेस्टिंग अभियान चलाने के संबंध में आवश्यक निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वायरस के दूसरे स्ट्रेन से ज्यादा तेजी से संक्रमण हो रहा है और मरीजों को ठीक होने में भी ज्यादा समय लग रहा है। इसे ध्यान में रखते हुए जिलों में मरीजों की तत्परता से इलाज सुविधा के लिए हर आवश्यक व्यवस्था सुनिश्चित करें।

Posted By: Azmat Ali
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.