सामान्य सभा की बैठक में उठ रहे मुद्दे, लेकिन हल नहीं निकल रहा

Updated: | Sat, 27 Nov 2021 09:00 AM (IST)

रायपुर। जिला पंचायत की सामान्य सभा की बैठक हवा-हवाई साबित हो रही है। बैठक में जनप्रतिनिधि ग्रामीण अंचल के विकास के लिए मुद्दा उठाते हैं। जिम्मेदार अधिकारी प्रतिवेदन बनाकर खानापूर्ति कर देते हैं। जिला पंचायत सामान्य सभा की बैठक के हालात ऐसे हैं कि जन प्रतिनिधि आधा दर्जन से अधिक मुद्दे पिछले तीन सामान्य सभा की बैठक से उठा रहे हैं, लेकिन एक भी मुद्दे को अधिकारी अमली जामा नहीं पहना पा रहे हैं। ग्रामीण अंचल में बायो मेडिकल वेस्ट खुले में फेंका जा रहा है।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को इसकी जानकारी ही नहीं है। वहीं फसलों की सिंचाई के लिए नहर लाइनिंग का काम नहीं हो रहा है। जिला पंचायत सदस्य द्वारा यह मुद्दा कई बार सामान्य सभा की बैठक में उठाया गया, लेकिन अभी कोई हल नहीं निकला है।

जिला पंचायत रायपुर में शुक्रवार की दोपहर 12 बजे सामान्य सभा की बैठक आयोजित की गई। बैठक में सर्व प्रथम जिला पंचायत अध्यक्ष डोमेश्वरी वर्मा ने रायपुर के ग्रामीण अंचल में छोलाछाप डाक्टर फर्जी तरीके से अपनी दुकान चला रहे हैं। अवैध तरीके से बड़ी-बड़ी अस्पताल संचालित हो रही है। इन पर कभी कार्रवाई नहीं होती। इसके साथ ही गांव में शासकीय अस्पताल आयुष्यमान कार्ड से ग्रामीणों का उपचार नहीं कर रहे हैं। अस्पतालों से उनको भगा दिया जाता है, जिससे ग्रामीण उपचार के लिए दर-दर भटक रहे हैं।

इसे तत्काल प्रभाव से सुधार करने की बात कही है। इसके साथ प्रधानमंत्री आवास योजना के अंतर्गत पिछले दो साल से फंड नहीं मिल रहा है इस कारण सैकड़ों आवेदन लंबित है। हितग्राही सर ढंकने लिए छत की तलाश में जिला पंचायत कार्यालय के चक्कर काट रहे हैं। इसके साथ ही पिछले वर्ष धान खरीदी के लिए किसानों को बारदाने का पैसा अभी तक जारी नहीं हुआ है। दोबारा धान खरीदी शुरू हो गई है।

कलेक्टर के पत्र के बाद भी नहीं हुआ सड़क निर्माण

मोहरेंगा से हिरमी जाने वाली सड़क पूरी तरह से खराब हो चुकी है। इसकी मरम्मत अल्ट्राटेक सीमेंट कंपनी द्वारा की जानी है। कंपनी कई सालों से मरम्मत कार्य नहीं कर रही है। कंपनी को कलेक्टर ने सड़क निर्माण के लिए पत्र जारी किया है, लेकिन कंपनी ने अभी तक सड़क का निर्माण कार्य नहीं करवाया है। शुक्रवार को जिला पंचायत की सामान्य सभा की बैठक में इसे लेकर जमकर मामला गर्माया। इसके साथ ही भाटापारा नहर नाली निर्माण के लिए कई बार से मुद्दा उठाया जा रहा है जा रहा है, लेकिन काम नहीं हो रहा है। वहीं सिंचाई विभाग के अधिकारी बिना सूचना के बैठक से नदारत थे। उनको नोटिस जारी किया गया है।

अवैध रेत उत्खनन पर नहीं लग रही रोक

जिला पंचायत सभापति राजू शर्मा ने आरंग इलाके में हो रहे अवैध रेत उत्खनन पर लगाम लगाने की मांग की है। इसके साथ ही डेरी फार्म वालों की अनुदान राशि नहीं मिल रही है। इसे जारी कराने का मांग की है।

स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी को नहीं थी जानकारी

बैठक में स्वास्थ्य विभाग का मुद्दा ज्यादा गर्माया था। बैठक में उपस्थित स्वास्थ्य विभाग की अधिकारी बिना जानकारी के बैठक में उपस्थित हो गई थी। जिला पंचायत सीईओ मयंक चतुर्वेदी ने जब उनसे पूछा कि ग्रामीण अंचलों में कितनी मेडिकल वेस्ट निकलता है। क्या विभाग कार्रवाई करता है तो उनके पास कोई जवाब नहीं था।

Posted By: kunal.mishra